गुजरात के 18वें सीएम भूपेंद्र पटेल कैबिनेट में जातीय समीकरण, युवा, अनुभव और परफॉर्मेंस का गठजोड़

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने भूपेंद्र पटेल को 18वें मुख्यमंत्री के रूप में दिलाई शपथ, गांधीनगर के हैलीपैड मैदान मे पटेल के साथ 16 मंत्रियों ने पद व गोपनीयता की ली शपथ, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, यूपी सीएम योगी, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सहित देशभर के दिग्गज भाजपाई रहे मौजूद

भूपेंद्र पटेल ने दूसरी बार गुजरात के  मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली
भूपेंद्र पटेल ने दूसरी बार गुजरात के  मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली

Gujarat CM Bhupendra Patel Oath: गुजरात में भारतीय जनता पार्टी की लगातार सातवीं और ऐतिहासिक जीत के बाद सोमवार को दोपहर दो बजे भूपेंद्र पटेल ने दूसरी बार प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने गांधीनगर में नए सचिवालय के पास हेलीपैड ग्राउंड में आयोजित समारोह में भूपेंद्र पटेल को राज्य के 18वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई. राजधानी गांधीनगर के हैलीपैड मैदान में सीएम भूपेंद्र पटेल और उनके 16 मंत्रियों ने पद व गोपनीयता की शपथ ली. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, यूपी सीएम योगी, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सहित देशभर बीजेपी के दिग्गज नेता मौजूद रहे. बता दें कि भूपेंद्र पटेल कैबिनेट के लिए मंत्रियों की लिस्ट तैयार करते हुए जातीय समीकरण, युवा और अनुभव के बीच संतुलन, परफॉर्मेंस आदि बातों का ख्याल रखा गया है. खास बात यह है कि भूपेंद्र की कैबिनेट में नरेंद्र मोदी और विजय रुपाणी के मंत्रिमंडल के सदस्य रहे नेताओं के नाम भी शामिल हैं.

आपको बता दें कि हाल में संपन्न हुए गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 182 में से रिकॉर्ड 156 सीट जीती है. वहीं सोमवार को भूपेन्द्र पटेल को मुख्यमंत्री व अन्य 16 विधायकों ने मंत्रीपद की शपथ ली. इस तरह गुजरात की नई सरकार में आठ कैबिनेट मंत्री, छह राज्य मंत्री और दो राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने पद और गोपनीयता की शपथ ली है. इनमें पांच विधायक पहली बार मंत्री बनाए गए. वहीं, बाकी पुराने चेहरों को ही जगह दी गई है. मंत्रिमंडल में पाटीदार, ओबीसी, आदिवासी, दलित, ब्राह्मण, क्षत्रिय सभी जातीय संतुलन को भी बनाया गया है.

यह भी पढ़ें: खड़गे के बाद अब बीजेपी नेता ने पीएम मोदी को बताया रावण, लेकिन किसी भाजपाई ने नहीं बताया अपमान!

गुजरात की भूपेंद्र पटेल कैबिनेट की पूरी लिस्ट

Patanjali ads

  1. बलवंत सिंह राजपूत – क्षत्रिय समाज से आते हैं. साल 2017 में अहमद पटेल के सामने राज्यसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार होने की वजह से काफी चर्चा में रहे थे. गुजरात में बीजेपी ने उन्हें राज्यसभा के लिए तीसरा उम्मीदवार बनाया था. चुनाव में हार के बाद उन्हें GIDC का अध्यक्ष बनाया गया था. अब गुजरात सरकार में मंत्री बनने वालों की लिस्ट में शामिल हैं.
  2. पुरुषोत्तम सोलंकी– नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री रहे पुरुषोत्तम सोलंकी गुजरात में कोली समाज का बड़ा चेहरा हैं. प्रदेश में 19 प्रतिशत कोली समुदाय के वोट बैंक को ध्यान में रखकर इन्हें मंत्री की लिस्ट में रखा गया है. भूपेंद्र पटेल की पहली सरकार में जगह नहीं मिलने से वह नाराज थे और बाद में हाईकमान के आदेश पर मान गए थे.
  3. मुकेश पटेल- गुजरात बीजेपी अध्यक्ष सीआर पाटिल के करीबियों में एक मुकेश पटेल सूरत में पाटीदार समाज से आने वाले प्रमुख नेता हैं. भूपेंद्र पटेल सरकार में ही उन्हें पहली बार शामिल किया गया था. इस बार वह दोबारा मंत्री बन रहे हैं.
  4. भानुबेन बाबरिया – दलित समाज से आने वाली भानुबेन बाबरिया पहली बार मंत्री बनने वाली हैं.
  5. बचु खाबड़ – प्रदेश के मशहूर आदिवासी नेता बचु खाबर भी मंत्री बनने वाले हैं.
  6. कुबेर डिडोर – भूपेंद्र पटेल सरकार में मंत्री रहे पीएचडी डिग्री वाले कुबेर डिडोर आदिवासी नेता हैं.
  7. जगदीश विश्वकर्मा – भूपेंद्र पटेल सरकार में मंत्री रह चुके जगदीश विश्वकर्मा गुजरात में चर्चित ओबीसी चेहरा हैं.
  8. हर्ष सांघवी – भूपेंद्र पटेल सरकार में गृह राज्य मंत्री रहे हर्ष सांघवी जैन समाज से आने वाले युवा नेता हैं. अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहते हैं.
  9. मोलूभाई बेरा– आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री चेहरा ईशुदान गढ़वी को हराकर विधानसभा में आए हैं. अहीर समाज से आने वाले मोलूभाई बेरा ने खंभालिया सीट जीतने के बाद आकर्षण का केंद्र बने.
  10. कुंवरजी नरसिंह भाई हलपति- सूरत की मांडवी सीट से जीते हैं. दूसरी बार विधायक बने हैं. पहली बार मंत्री बनाए गए हैं.
  11. प्रफुल्ल पानसेरीया- पाटीदार नेता है. भूपेंद्र पटेल सरकार में पहली बार मंत्री बन रहे हैं.
  12. भीखूजी परमार – आदिवासी इलाके के मोडासा सीट से विधायक हैं. ओबीसी समाज से आते हैं.
  13. ऋषिकेश पटेल– उत्तर गुजरात के बड़े पाटीदार चेहरा हैं. नितिन पटेल को मंत्री मंडल से हटाए जाने के बाद इन्हें भूपेंद्र पटेल सरकार आरोग्य मंत्री (Health Minister) बनाए गए थे.
  14. कनुभाई देसाई– ब्राह्मण परिवार से आने वाले कनुभाई देसाई भूपेंद्र पटेल सरकार में वित्त मंत्री रह चुके हैं.
  15. राघवजी पटेल– सौराष्ट्र के पाटीदार नेता और पेशे से किसान राघवजी पटेल कांग्रेस से बीजेपी में आए हैं. साल 2017 में विधानसभा चुनाव हार गये थे. बाद में उपचुनाव जीतकर भूपेन्द्र पटेल सरकार में कृषि मंत्री बने थे.
  16. कुंवरजी बावलिया – कोली समाज का बड़ा चेहरा माने जाने वाले कुंवरजी बावलिया पिछले विधानसभा चुनाव यानी 2017 में कांग्रेस की टिकट पर जीत कर आए थे. इसके बाद बीजेपी में शामिल हो गए. विजय रूपाणी सरकार में मंत्री भी बने. जसदान उपचुनाव में जीतने के बाद भी भूपेन्द्र पटेल सरकार में जगह नहीं मिली थी. इस बार फिर मंत्री बनाए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: दूध बेचने वाले ड्राइवर के बेटे ने सोचा नहीं था कि कभी पहाड़ों की सरकार के 15वें मुख्यमंत्री की लेंगे शपथ

आपको बता दें कि गुजरात के विधानसभा चुनाव में भाजपा की लगातार सातवीं जीत है. कांग्रेस को 17 और आम आदमी पार्टी (आप) को पांच सीट पर जीत मिली है. पटेल (60) ने शुक्रवार को अपने पूरे मंत्रिमंडल के साथ शु्क्रवार को इस्तीफा दे दिया था, ताकि राज्य में नई सरकार के गठन का रास्ता साफ हो सके. उन्हें शनिवार को भाजपा विधायक दल का नेता चुना गया था, जिसके बाद उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात करके अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया था. पटेल ने घाटलोडिया सीट पर 1.92 लाख मतों के अंतर से अपने प्रतिद्वंद्वी को मात दी. पटेल को पिछले साल सितंबर में विजय रूपाणी के इस्तीफे के बाद राज्य की कमान मिली थी.

Leave a Reply