खुलासा: वॉल्व के फटने के कारण हुआ विशाखापट्टनम गैस कांड, मृतकों के परिजनों को 1-1 करोड़ का एलान

वॉल्व नियंत्रण को ठीक से संभाला नहीं गया और वे फट गए, फैक्ट्री के आसपास के इलाकों के स्थानीय ग्रामीणों ने फैक्ट्री का कोई सायरन नहीं सुना, 300 लोग अस्पताल में भर्ती, पीएम मोदी ने रेड्डी से बात कर ली जानकारी, सीएम रेड्डी पहुंचे अस्पताल.

0
विशाखापट्टनम गैस कांड
विशाखापट्टनम गैस कांड

पॉलिटॉक्स न्यूज़/आंध्र प्रदेश. विशाखापट्टनम के आर.आर. वेंकटपुरम गांव में एक प्लांट से कैमिकल गैस के लीक होने के बाद गुरुवार को कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई. शुरुआती जांच रिपोर्ट में पता चला कि गैस वॉल्व में दिक्कत के कारण यह हादसा हुआ. गुरुवार सुबह 2.30 बजे गैस वॉल्व खराब हो गया और जहरीली गैस लीक कर गई. फिलहाल, यह शुरुआती जांच रिपोर्ट है. अभी अधिकारियों की पूरी टीम मामले की जांच करेगी. वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने अस्पताल जाकर मरीजों की कुशलक्षेम पूछी और घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को 1-1 करोड़ रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया है. गैस कांड के चलते जिन लोगों का वेंटिलेटर पर इलाज चल रहा है उन सभी लोगों को 10 लाख रुपये दिए जाएंगे. इसके अलावा, अन्य लोगों को जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है लेकिन वे वेंटिलेटर पर नहीं हैं उन सभी को 1-1 लाख रुपये दिए जाएंगे.

मामले की प्रारंभिक जांच कर रहे एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक, अभी तक पता चलता है कि गैस के लिए वॉल्व नियंत्रण को ठीक से संभाला नहीं गया था और वे फट गए, जिससे रिसाव हुआ. इसके साथ ही फैक्ट्री के आसपास के इलाकों के स्थानीय ग्रामीणों ने फैक्ट्री का कोई सायरन नहीं सुना. इस वजह से हादसे की चपेट में अधिक लोग आ गए. वहीं विशाखापट्टनम में अपने संयंत्र में एक बड़े गैस रिसाव के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में एलजी केम ने कहा है कि गैस रिसाव की स्थिति अब नियंत्रण में है और पीड़ितों को शीघ्र उपचार प्रदान करने के सभी तरीके अपनाए जा रहे हैं. कंपनी ने कहा कि हम मामले की जांच कर रहे हैं ताकि रिसाव और मौतों का सटीक कारण पता चल सके.

गुरुवार की अल सुबह जैसे ही गैस रिसाव की सूचना मिली एंबुलेंस, फायर टेंडर की गाड़ियां और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची. फिलहाल राहत बचाव का कार्य चल रहा है, जिसके लिए आपदा प्रबंधन की टीम को भी लगा दिया गया है. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमें घटनास्थल पर पहुंच गई हैं. बताया जा रहा है कि गैस रिसाव को काबू कर लिया गया है. इस घटना के बाद करीब हजार से ज्यादा लोगों ने खुद को अस्वस्थ बताया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक विशाखापट्टनम में गैस लीक होने के चलते 300 लोगों को कई अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. इस घटना के बाद राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने सख्ती दिखाते हुए केन्द्र और राज्य सरकार को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है.

वहीं विशाखापट्टनम गैस कांड़ के पीड़ितों का हाल जानने के लिए खुद प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी शहर के किंग जॉर्ज अस्पताल पहुंचे. अधिकारियों ने बताया कि यह प्लांट गोपालपट्टनम इलाके में स्थित है. इस इलाके के लोगों ने आंखों में जलन, सांस लेने में तकलीफ, जी मचलाना और शरीर पर लाल चकत्ते पड़ने की शिकायत की है. इस मामले पर पीएम मोदी भी निगरानी रख रहे हैं. पीएम मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी से बात की है और उन्हें हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया है.

घटना पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने दुख व्यक्त करते हुए कहा कि विशाखापत्तनम के पास एक प्लांट में गैस के रिसाव की खबर से दुखी हूं जिसने कई लोगों की जान ले ली. पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है. मैं घायलों के ठीक होने और सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं.

वहीं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया कि, ‘विशाखापट्टनम की घटना बेचैन करने वाली है. मैंने एनडीएमए के तथा अन्य संबंधित अधिकारियों से बात की है. हम स्थिति पर निरंतर कड़ी नजर रखे हुए हैं. मैं विशाखापट्टनम के लोगों की कुशलता के लिए प्रार्थना करता हूं.’

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आन्ध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की घटना में लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘विशाखापट्टनम से दुखद खबर आयी है. इस त्रासद घटना के कारण वहां लोगों की मौत होने से बहुत दुख हुआ है. मृतकों के परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं, मैं विशाखापट्टनम के लोगों की सुरक्षा और कुशलता की कामना करता हूं.’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की घटना पर दुख जताते हुए पार्टी के स्थानीय नेताओं एवं कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे प्रभावित लोगों की हरसंभव मदद करें. राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि, ‘मैं विजाग (आंध्र प्रदेश) में गैस लीक के बारे में सुनकर स्तब्ध हूं. मैं इलाके के कांग्रेस के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से आग्रह करता हूं कि वे प्रभावित लोगों की हरसंभव मदद करें. पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी संवेदना है. मैं अस्पताल में भर्ती लोगों के जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं.’

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया कि, भयानक #VizagGasLeak त्रासदी के बारे में जानकर स्तब्ध हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदना, जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है. भगवान उन्हें यह नुकसान सहने की शक्ति दे. मैं अस्पताल में भर्ती घटना के घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूँ.’

यह भी पढ़ें: 12 लाख के इनामी रियाज नाइकू समेत 6 आतंकियों को ढेर कर सेना ने लिया शहादत का बदला

वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आन्ध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गैस रिसाव की घटना को अत्यंत दुखदायी बताते हुए कुछ लोगों की असमय मृत्यु पर शोक जताया. शिवराज सिंह ने ट्वीट कर कहा ‘विशाखापट्टनम स्थित केमिकल प्लांट में ज़हरीली गैस के लीक होने से कई अमूल्य जिंदगियों के असमय काल कवलित और अस्वस्थ होने का समाचार अत्यंत दुखदायी है. ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को संबल देने तथा घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की करबद्ध प्रार्थना करता हूं.’

Leave a Reply