दिवाली पर एक जाजम पर आएगा सैफई परिवार! ‘मुलायम’ हुए अखिलेश बोले- होगा चाचा का सम्मान

दिवाली पर एक होगा मुलायम परिवार का कुनबा! भतीजे अखिलेश ने चाचा के लिए दिया ग्रीन सिग्नल, शिवपाल की पार्टी से गठबंधन के दिए संकेत, अखिलेश ने कहा- चाचा के दल को साथ में लाने का करेंगे काम, चाचा सियासी वजूद बचाने के लिए पहले ही दे चुके हैं विलय के संकेत, लेकिन अखिलेश ने अभी गठबंधन का दिया है संकेत, अब दिवाली पर बैठेंगे सब एक साथ तो क्या निकल कर आता है देखने वाली होगी बात

0
हम साथ-साथ हैं
हम साथ-साथ हैं
Advertisement2

Politalks.News/Uttarpradesh. क्या सैफई परिवार फिर बैठेगा एक जाजम पर! दिवाली के शुभ मौके पर चाचा शिवपाल यादव और भतीजे अखिलेश यादव एक हो सकते हैं. सियासी गलियारों में इस बात की चर्चा तेज होती जा रही है कि, चाचा-भतीजे की जोड़ी यूपी विधानसभा चुनाव के रण में साथ उतरने की तैयारी कर रही है. विधानसभा चुनाव के लिए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (पीएसपीएल) और समाजवादी पार्टी (सपा) के बीच गठबंधन हो सकता है. दरअसल, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गठबंधन को लेकर संकेत दिए हैं और चाचा को सम्मान देने की बात कही है. इधर सियासी वजूद बचाने की कोशिश में जुटे शिवपाल के लिए ये गठबंधन संजीवनी साबित हो सकता है. अब दिवाली पर जब सैफई परिवार एक जाजम पर बैठेगा तो गठबंधन या विलय पर मुहर लगने की पूरी संभावना है. वहीं 22 नवंबर को सीनियर यादव के जन्मदिन के जलसे में चाचा-भतीजा एक मंच पर नजर आ सकते हैं.

चाचा शिवपाल को होगा सम्मान, करेंगे गठबंधन- अखिलेश
आपको बता दें यादव परिवार दिवाली सैफई में ही मनाता है. अखिलेश यादव दिवाली मनाने सैफई पहुंचे हैं. इस दौरान अखिलेश ने सपा कार्यकर्ताओं से मुलाकात की. इस दौरान अखिलेश ने कहा कि, ‘मैं भरोसा दिलाता हूं कि चाचा का सम्मान होगा उनके दल को साथ लाने का काम करेंगे. नेताजी का जन्मदिन तो बाद में आयेगा, मैं आज ही कह रहा हूं कि उनका सम्मान होगा’. अखिलेश ने विलय के सवाल पर कहा कि,‘शिवपाल का पार्टी में विलय नहीं होगा’. उन्होंने कहा कि हम चुनाव में जा रहे हैं, जिस तरह से गठबंधन होता है उसी तरह से गठबंधन होगा’.

यह भी पढ़ें- तेजस्वी-लालू की जोड़ी पर भारी पड़े नीतीश, कांग्रेस-AIMIM ने बिगाड़े समीकरण तो बची JDU की लाज!

सपा में विलय को तैयार हैं शिवपाल
इधर आपको यह भी बता दें कि,’शिवपाल यादव अपनी पार्टी की सपा में विलय की इच्छा जता चुके हैं’. शिवपाल यादव ने कहा है कि, ‘अगर उनकी पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं का सपा में सम्मानजनक स्वागत होता है तो वह अपनी पार्टी का सपा में विलय करने के लिए तैयार हैं’. शिवपाल यादव ने सोमवार रात अलीगढ़ में संवाददाताओं से कहा कि, ‘अगर सपा उन्हें पार्टी में शामिल करना चाहती है तो वह चाहते हैं कि न केवल खुद उन्हें, बल्कि उनके कार्यकर्ताओं और समर्थकों को भी वही सम्मान मिलना चाहिए’.

22 नवंबर को मंच शेयर कर सकते हैं चाचा-भतीजा
भतीजे अखिलेश ने अब दिपावली से ठीक एक दिन पहले सैफई में चाचा शिवपाल की पुकार सुनी और कहा है कि, आगामी विधानसभा चुनाव में एसपी चाचा की पार्टी और अन्य सभी छोटे क्षेत्रीय दलों के साथ चुनावी गठबंधन करेगी’. ऐसा माना जा रहा है कि 22 नवंबर को मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के अवसर पर चाचा और भतीजे एक साथ मंच साझा कर सकते हैं. इसी दिन सपा और प्रसपा के बीच यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए गठबंधन की घोषणा हो सकता है. शिवपाल यादव लगातार इस बात की वकालत कर रहे थे कि भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए समान विचारधारा वाले दलों को एक साथ आना होगा.

यह भी पढें- मंत्रिमंडल पुनर्गठन-राजनीतिक नियुक्तियों पर फिर बोले पायलट- उपचुनाव भी हुए, अब नहीं बचा कोई कारण

शिवपाल को मिलेगी राहत, सपा को मजबूती!
सपा के साथ विलय या गठबंधन शिवपाल और उनकी पार्टी दोनों के लिए राहत वाली बात होगी. क्योंकि वह अपने सियासी वजूद के लिए संघर्ष कर रहे थे. चाचा-भतीजे के बीच साल 2017 विधानसभा चुनाव के बाद शुरू हुई सियासी रंजिश 2022 असेंबली इलेक्शन से ठीक पहले मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन के दिन खत्म हो सकती है. दो दिन पहले ही शिवपाल यादव ने बयान दिया था कि यूपी चुनाव में यदि प्रसपा का समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं होता है तो मुलायम सिंह यादव उनके लिए प्रचार करेंगे. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा था कि नेताजी ने आश्वासन दिया है कि अखिलेश प्रसपा के साथ गठबंधन करेंगे.

 

 

Leave a Reply