तांडव पर मचा बवाल, सियासी दलों ने की सीरीज को बैन करने की मांग, पूरी टीम के खिलाफ दर्ज हुई FIR

'तांडव' वेब सीरीज में कई अशोभनीय बातों और प्रधानमंत्री के गरिमामय पद को ग्रहण करने वाले व्यक्ति का चित्रण खराब तरीके से दर्शाने के मामले पर मचा बवाल, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने किया तलब, यूपी पुलिस पूछताछ के लिए मुम्बई रवाना

0
Img 20210118 Wa0215
Img 20210118 Wa0215
Advertisement2

Politalks.News/Tandav. अमेजन प्राइम वीडियो पर वेब सीरीज ‘तांडव‘ के रिलीज होने के बाद उसमें परोसे गए कंटेंट को लेकर विवाद गहरा गया है. जहां एक ओर बीजेपी व अन्य दलों के नेताओं समेत कई संगठनों की ओर से इस वेबसिरिज को बैन करने की मांग की है तो वहीं सूचना प्रसारण मंत्रालय ने अमेजन प्राइम वीडियो के अधिकारियों का तलब किया है. दूसरी तरफ वेब सीरीज में हिंदू देवताओं के अपमान का आरोप लगाते हुए सबसे पहले बीजेपी विधायक राम कदम ने घाटकोपर पुलिस स्टेशन में ‘तांडव‘ के निर्माताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है, तो वहीं लखनऊ के हजरतगंज थाने में सीरीज के निर्माता, निर्देशकों पर एफआईआर दर्ज की गई है.

लखनऊ के हजरतगंज थाने में केस दर्ज होने के बाद पुलिस भी एक्शन में आ गई है. मामले की जांच लेकर चार पुलिस कर्मियों की एक टीम मुंबई के लिए रवाना हो गई है. पूरे मामले में पुलिस वेब सीरीज के निर्देशक और लेखक से पूछताछ करेगी. आपको बता दें कि ‘तांडव‘ वेब सीरीज में कई अशोभनीय बातों और प्रधानमंत्री के गरिमामय पद को ग्रहण करने वाले व्यक्ति का चित्रण खराब तरीके से दर्शाने के मामले में डायरेक्टर अली अब्बास जफर, निर्देशक हिमांशु कृष्ण मेहरा, लेखक गौरव सोलंकी और अमेजन प्राइम की ओरिजनल कंटेन्ट इंडिया हेड अपर्णा पुरोहित के खिलाफ रविवार देर रात एफआईआर दर्ज कराई गई है. यह एफआईआर लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली के सब इंस्पेक्टर अमरनाथ यादव की तहरीर पर लिखी गई है.

यह भी पढ़ें: संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा निलंबित किए जाने के बाद चढूनी ने किसान नेता कक्का को बताया RSS का एजेंट

हजरतगंज कोतवाली के सब इंस्पेक्टर अमरनाथ यादव ने एफआईआर में लिखा है कि इस वेब सीरीज के कई अंश सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहे हैं. इसके बाद ही कई अधिकारियों ने इस सीरीज को देखा तो पाया गया कि सीरीज के प्रथम एपीसोड के 17 वें मिनट में देवी-देवताओं को बोलते दिखाया गया है जिसमें निम्न स्तरीय भाषा का प्रयोग किया गया है।

जन भावनाओं के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा : शलभ मणि त्रिपाठी
इस मामले में बीजेपी प्रवक्ता और मीडिया सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने ट्वीट करके कहा था, ‘जन भावनाओं के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. वेब सीरीज की आड़ में नफरत फैलाने वाली वेब सीरीज तांडव की पूरी टीम के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. त्रिपाठी ने लिखा इस टीम को धार्मिक भावनाओं को आहत करने की कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने की आपत्तिजनक दृश्यों को हटाने की मांग

बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया कि तांडव वेब सीरीज में धार्मिक एवं जातीय भावना को आहत करने वाले कुछ दृश्यों को लेकर विरोध हो रहा है, इस संबंध में जो भी आपत्तिजनक दृश्य हैं, उन्हें हटा दिया जाना उचित होगा ताकि देश में कहीं भी शान्ति, सौहार्द और आपसी भाईचारे का माहौल खराब नहीं हो.

मुंबई उत्तर-पूर्व से सांसद कोटक ने आरोप लगाया है कि ऐसे मंचों पर अक्सर हिंदू देवी-देवताओं को गलत तरीके से दिखाने का प्रयास किया जाता है. उन्होंने कहा कि विभिन्न संगठनों और व्यक्तियों ने शिकायत की है कि ‘तांडव’ वेब सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का उपहास किया गया है. कोटक ने कहा, इसलिए, हमने जावड़ेकर जी से मांग की है और उन्हें पत्र लिखा है कि वे वेब सीरीज पर तत्काल रोक लगाएं और इस सीरीज के अभिनेताओं, निर्माता और निर्देशक को भावनाओं को आहत करने के लिए माफी मांगनी चाहिए.

यह भी पढ़ें: रोमांचक हुआ बंगाल का सियासी घमासान, टीएमसी-बीजेपी की कांटे की टक्कर के बीच शिवसेना की हुई एंट्री

एक अन्य नेता एवं घाटकोपर पश्चिम से भाजपा विधायक राम कदम ने भी निर्देशक से वेब सीरीज के उस हिस्से को हटाने के लिए कहा जिसमें भगवान शिव का कथित रूप से उपहास किया गया है. विधायक ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में उपनगरीय घाटकोपर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है. शिकायतों के बारे में संपर्क किए जाने पर अमेजन प्राइम वीडियो पीआर ने कहा कि प्लेटफॉर्म इस मामले पर प्रतिक्रिया नहीं देगा.

वहीं अमेजन प्राइम वीडियो की इस वेब सीरीज ‘तांडव‘ को लेकर मचे बवाल के बाद मध्य प्रदेश में भी इस वेब सीरीज को लेकर जगह-जगह प्रदर्शन हो रहा है. जबकि प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इस मामले में विधि विभाग को भी पत्र लिखा है. नरोत्तम मिश्रा ने वेब सीरीज को लेकर वैधानिक कार्रवाई की मांग की है. वहीं शिवराज सरकार में मंत्री विश्वास सारंग ने इस वेब सीरीज को बैन करने की मांग की है. जबकि पूरे देश में अब इसका विरोध शुरू हो गया है. ऐसे में सब यह जानना चाहते हैं कि आखिर सैफ अली खान स्टारर इस वेब सीरीज ‘तांडव‘ में ऐसा क्या दिखाया गया है कि सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक हंगामा मचा हुआ है. आइए आपको बताते हैं आखिर वो सीन कौनसे हैं जिन पर विवाद हुआ है-

विवाद का सीन न0.1
वेब सीरीज ‘तांडव‘ के पहले एपिसोड के ही एक सीन में एक्टर जीशान अयूब भगवान शंकर से मिलता-जुलता रूप बनाए हुए हैं. उनके हाथ में त्रिशूल और गले में रुद्राक्ष की माला है. हालांकि, एक्टर ने इस सीन में कोट-पैंट पहन रखा है. भगवान शिव के रूप में वह कहते हैं- ‘आखिर आपको किससे आजादी चाहिए’ तभी मंच पर संचालक की भूमिका में नारद मुनि का किरदार आता है. वे कहते हैं- ‘नारायण नारायण, प्रभु कुछ कीजिए, रामजी के फॉलोअर्स लगातार सोशल मीडिया पर बढ़ते ही जा रहे हैं.’

विवाद का सीन न0.2
वेब सीरीज में दिखाया गया है कि एक कथित दलित मंत्री, एक कथित ऊंची जाति की महिला को डेट करता है. इस संदर्भ में वेब सीरीज में दो बार एक विवादित बयान आता है- “जब एक छोटी जाति का आदमी एक ऊंची जाति की औरत को डेट करता है न तो वह बदला ले रहा होता है, सिर्फ उस एक औरत से.” इस बयान पर लोगों ने खासकर यूपी के लोगों ने जमकर आपत्ति जताई है.

आपको बता दें, वेबसिरिज ‘तांडव‘ को अली अब्बास जफर ने निर्देशित किया है. वे इससे पहले मेरी ब्रदर की दुल्हन, गुंडे, सुल्तान और टाइगर जिंदा है जैसे फ़िल्मों का निर्देशन कर चुके हैं. वहीं, तांडव की कहानी गौरव सोलंकी ने लिखी है, जो अपनी किताब ‘ग्यारहवीं A के लड़के’ के लिए चर्चित रहे हैं. वेब सीरीज की स्टार कास्ट की बात करें, तो सैफ अली खान के अलावा कुमुद मिश्रा, डिंपल कपाड़िया, तिग्माशुं धूलिया, सुनील ग्रोवर, डीनो मोरिया, जीशान अयूब और कृति कामरा अहम भूमिका में हैं.

Leave a Reply