कटारिया बोले- डोटासरा अनुभवहीन तो पीसीसी चीफ का पलटवार- 8 बार के विधायक नहीं दिलवा पाए एक टिकट

उपचुनाव प्रचार में कटारिया-डोटासरा में चले 'शब्दबाण', कटारिया ने डोटासरा को बताया अनुभवहीन, एक मंच से भाषण की दी चुनौती, तो डोटासरा बोले- झूठे भाषण देने इनकी महानता, तीन टिकट तो नहीं दिलवा पाए अपनी मर्जी से, फिर खुद कह रहे फांसी खाकर मर जाउं क्या? इधर, कटारिया का वल्लभनगर में प्रचार के लिए नहीं जाना बना चर्चा का विषय

0
उपचुनाव प्रचार में कटारिया-डोटासरा में चले 'शब्दबाण'
उपचुनाव प्रचार में कटारिया-डोटासरा में चले 'शब्दबाण'
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. धरियावद और वल्लभनगर उपचुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा में जमकर बयानों के तीर चल रहे हैं. दोनों पार्टी के नेता इन दिनों एक-दूसरे पर खूब निशाना साध रहे हैं. मंगलवार को नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने जहां पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा को अनुभवहीन नेता बताया तो कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कटारिया की हैसियत पर ही सवाल खड़े कर दिए. इधर, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का वल्लभनगर में चुनाव प्रचार के लिए नहीं जाना चर्चा का विषय बना हुआ है.

प्रदेशाध्यक्ष हो जाने से कोई बड़ा नेता नहीं हो जाता- कटारिया
धरियावद और उपचुनाव में कांग्रेस के गोविंद सिंह डोटासरा सहित कई बड़े नेताओं के दौरे को लेकर पूछे जाने पर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि, ‘डोटासरा कोई बड़े नेता नहीं हैं. पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष हो जाने से नेता बड़ा नहीं हो जाता. थोड़ा बहुत अनुभव भी होना चाहिए’. कटारिया ने यह भी कहा कि, ‘सिर्फ भाषण देने से कुछ नहीं होता’. गुलाबचंद कटारिया ने कांग्रेस को चैलेंज देते हुए कहा कि, ‘अगर भाषण की ही बात है, तो दोनों पार्टियों के नेताओं को एक मंच पर बैठा लो, फिर पता चल जाएगा’.

यह भी पढ़ें- मंडेलिया को लेकर राठौड़ के नपुंसक वाले बयान पर हर कोई हतप्रभ, सधे हुए बयानों के लिए जाने जाते हैं राठौड़

8 बार के विधायक एक टिकट तो नहीं दिलवा पाए- डोटासरा
नेताप्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के बयान पर पलटवार करते हुए पीसीसी चीफ डोटासरा ने कहा कि, ‘झूठे भाषण देने में उनकी (कटारिया) महानता है, क्योंकि वह आरएसएस के व्यक्ति हैं. मैं तो बड़ा नहीं हूं पर वह कैसे बड़े हुए? कटारिया जैसा सीनियर आदमी, 8 बार के विधायक, उसको एक टिकट के लिए मेवाड़ में नहीं पूछा गया. कटारिया की हैसियत क्या रह गई भाजपा में? यह मैं पूछना चाहता हूं. तीन टिकट तक वो अपनी मर्जी से दिलवा नहीं पाए. खुद कह रहे हैं फांसी खाकर मर जाऊं क्या?

कहीं अवैध धंधा तो नहीं कर रहे?
उदयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पीसीसी चीफ डोटासरा ने कटारिया के पिछले दिनों वायरल हुए ऑडियो को लेकर कहा कि, ‘कटारिया खुद कह रहे हैं कि वल्लभनगर से इनका उम्मीदवार सांसद का पार्टनर है. मगर किस में पार्टनर है, ये भी तो बताओ? कोई अवैध धंधा तो नहीं कर रहा है? अडानी के पोर्ट पर ड्रग्स भी पकड़ी गई है. किस बात का पार्टनर है, जो इतने पैसे वाला है?.

यह भी पढ़ें- भरत सिंह का खान मंत्री पर कटाक्ष- प्रमोद जैन ‘देवता तुल्य’, भाया है ‘बदमाश’, इसकी करतूत हुई जगजाहिर

कटारिया का वल्लभनगर नहीं जाना बना चर्चा का विषय
वल्लभनगर और धरियावद विधानसभा उपचुनाव को लेकर प्रचार जोरों पर है. नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने उदयपुर के पास की वल्लभनगर सीट की जगह धरियावद पर ज्यादा फोकस कर रखा है. सूत्रों का कहना है कि, ‘अपने विवादित बयानों के बाद कटारिया ने वल्लभनगर से दूरी बना रखी है साथ ही अपने समर्थक को टिकट नहीं दिए जाने से नाराज भी बताए जा रहे हैं. अब तक एक बार भी वल्लभनगर चुनाव प्रचार के लिए नहीं गए हैं. पिछले 11 दिनों में एक बार भी वल्लभनगर नहीं जाना चर्चा का विषय बन गया है. इसके ठीक उलट कटारिया धरियावद सीट पर रोज प्रचार कर रहे हैं. पिछले चार दिन से कटारिया धरियावद में ही कैंप कर रहे हैं.

Leave a Reply