सूर्यनगरी में मैडम राजे के स्वागत में बिछे पलक-पावड़े, राजे-राजे की गूंज की सियासी गलियारों में चर्चा

सियासी चर्चाओं में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का जोधपुर दौरा, एयरपोर्ट के बाहर उमड़ा भारी जनसैलाब देख गदगद हुईं राजे तो अचंभित रह गए भाजपा और संघ में पैठ रखने वाले कैलाश विजयवर्गीय और श्योदान सिंह, आज हुजूम ने याद दिलाए मैडम राजे के सीएम कार्यकाल के दिन, मैडम राजे ने गजेंद्र शेखावत की माताजी के निधन पर जताया शोक, पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को अर्पित की श्रद्धांजलि, भील परिवार की मनुहार पर उनके झौंपे में गई और राबड़ी का स्वाद चख सादगी का दिया परिचय

0
जोधपुर में राजे-राजे
जोधपुर में राजे-राजे
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. प्रदेश की राजनीति में आज भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के जोधपुर दौरे की जोरदार चर्चाएं हो रही हैं. मैडम राजे वैसे तो आज केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत की माताजी और गहलोत सरकार में पूर्व मंत्री रहे महिपाल मदेरणा के निधन पर शोक जताने पहुंची थीं, लेकिन शार्ट नोटिस के बावजूद जिस अंदाज में मैडम वसुंधरा राजे के स्वागत में जनसैलाब उमड़ा, उसकी चर्चाएं जोधपुर से जयपुर और दिल्ली तक में भी हो रहीं है.

लम्बे अरसे बाद सीएम अशोक गहलोत के गृहक्षेत्र जोधपुर पहुंचीं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का स्वागत करने एयरपोर्ट पर बीजेपी कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ पड़ा. इस दौरान कार्यकर्ताओं ने जोरदार नारेबाजी भी की, ‘वसुंधरा राजे ज़िंदाबाद‘ के नारों से आस-पास का वातावरण गुंजायमान हो गया. एयरपोर्ट पर उमड़ी भीड़ का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वहां लगे लम्बे जाम से निकलने में खुद मैडम राजे को भी आधा घण्टा लग गया. यही नहीं मैडम वसुंधरा राजे के साथ दिल्ली से जोधपुर पहुंचे बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के पदाधिकारी और संघ के बड़े नेता माने जाने वाले कैलाश विजयवर्गीय व श्योदान सिंह में भी इस जनसैलाब को देखकर अचंभित रह गए.

यह भी पढ़ें- भाजपाईयों की बदजुबानी पर भड़के पायलट, बघेल व राठौड़ से की माफी की मांग, शुचिता का पढ़ाया पाठ

वहीं बड़ी संख्या में मौजूद अपने समर्थकों को देखकर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे भी गदगद हुईं और मैडम राजे ने भी खुले दिल से सभी कार्यकर्ताओं का अभिवादन स्वीकार किया. मैडम राजे की आज की इस जोधपुर यात्रा से पार्टी में बैकफुट पर चल रहे उनके कुछ समर्थकों में भी जोश का संचार कर दिया है. आपको बता दें, मैडम वसुंधरा राजे के इस दौरे के दौरान वर्तमान सांसद, विधायक, पूर्व मंत्री सहित 30 पूर्व विधायक और खास सिपहलासार मौजूद रहे, जो कि अपने आप मे बड़ी सियासी चर्चा का विषय बना हुआ है. साथ ही मैडम राजे ने सुराज संकल्प यात्रा की याद दिलाते हुए भील परिवार की मनुहार पर राबड़ी का स्वाद चखा.

fcoyv5uvuamjrad
बाजरे की राबड़ी का चखा स्वाद

भील परिवार की मनुहार टाल नहीं पाईं मैडम राजे, बाजरे की राबड़ी का चखा स्वाद
इस पूरे तामझाम के दौरान मैडम वसुंधरा राजे की सादगी भी इस बीच देखने को मिली. मैडम राजे को भील समुदाय की महिलाओं ने मनुहार कर बाजरे की राबड़ी पिलाई. गजेन्द्र शेखावत के घर से मदेरणा हाउस जाते समय रास्ते में पंडित जी की ढाणी में भील परिवार की महिलाओं को देख मैडम राजे ने काफिल रुकवा दिया. इन ग्रामीण महिलाओं ने मैडम राजे से अपने झोपे में चलने की मनुहार की. इस पर महिलाओं के साथ मौजूद बालिका नेनू और उसके पिता हीरा भील उन्हें अपने झोपे में ले गई, भील परिवार ने मैडम राजे के स्वागत के लिए पलक पावड़े बिछा दिए. मैडम को खाट पर बिठाया गया और मिट्टी की कुल्हडी में बाजरे और जीरे की राबड़ी पिलाई. मैडम राजे ने भी भील महिलाओं का सत्कार स्वीकार कर बड़े चाव से राबड़ी का स्वाद लिया. ये नजारा देख मौजूद लोगों ने कहा कि याद आते हैं सुराज संकल्प यात्रा के वो दिन जब मैडम राजे गांव-गांव में गईं थी और ग्रामीणों के बीच उनका जोरदार क्रैज देखने को मिलता था.

हीरा भील के लिए मैडम ने तुरंत कलेक्टर को मिला दिया फोन
इस दौरान हीरा भील ने पूर्व सीएम वसुंधरा राजे को अपनी आर्थिक स्थिति के बारे में बताया. हीरा भील ने बताया कि उनके मकानों के पट्टे नहीं बने हैं. उन्हें पट्टे मिल जायें तो अच्छा रहे. इस पर मैडम राजे ने मौक़े से ही जोधपुर कलेक्टर इंद्रजीत सिंह से बात की और भील परिवार की मांग पर नियमानुसार कार्रवाई के निर्देश दिए. मैडम राजे ने भील परिवार की महिलाओं को अपनी बच्चियों को पढ़ाने की भी सलाह दी. विदाई लेते समय भील परिवार का आभार भी व्यक्त किया.

यह भी पढ़ें- बदजुबानी की सियासी होड़ में शामिल हुए केंद्रीय मंत्री बघेल, सीएम गहलोत के लिए बोले अमर्यादित बोल

जोधपुर में राजे-राजे, पग-पग पर स्वागत के लिए उमड़ा जनसैलाब
जोधपुर पहुंची पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की एक झलक पाने के लिए एयरपोर्ट से लेकर पूरे दौरे के दौरान कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ा रहा. मैडम राजे का नौ मील, माणकलाव, मथानिया, ओसियां, पंडित जी की ढाणी, रायमलवाडा, कंवर जी की खेजड़ी, कपूरिया, पुनासर, जाखण और चाड़ी में भी जोरदार स्वागत हुआ. लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री राजे ने शोक में शामिल होने जाने के कारण सब जगह माला पहनने से इनकार कर दिया, हां लेकिन सबसे आत्मीयता से मिलीं, बात की और हालचाल जाने.

बिना किसी पूर्व योजना और इतने शॉर्ट नोटिस के बावजूद आज जो माहौल जोधपुर एयरपोर्ट के बाहर देखने को मिला उसको लेकर सियासी जानकारों का कहना है कि ऐसा मजमां कई दिनों बाद यहां देखने को मिला है. ऐसा हुजूम तो मैडम वसुंधरा राजे जब मुख्यमंत्री थीं उस समय ही उमड़ती थी और आज देखने को मिली है. इस दौरान मैडम राजे ने जोधपुर को अपना घर बताया तो जोधपुर में कार्यकर्ताओं ने उनका जगह-जगह स्वागत भी किया जो की चर्चा का विषय बना हुआ है.

fcnj4lduuaubq8z (1)
गजेन्द्र शेखावत परिवार को बंधाया ढांढस

शेखावत और मदेरणा परिवार को बंधाया ढांढस
जोधपुर एयरपोर्ट से वसुंधरा राजे सीधे केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के घर पहुंचीं. मैडम राजे ने गजेन्द्र शेखावत की मां के निधन पर शोक संवेदना प्रकट की और शोक संतप्त परिवार को ढांढस बंधाया. करीब आधा घंटा शेखवात के यहां रुकने के बाद मैडम राजे गहलोत सरकार में पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता महिपाल मदेरणा के निधन पर उनके परिजनों से मिलने के लिए जोधपुर जिले के चाडी गांव के लिए रवाना हो गईं. यहां मैडम राजे ने मदेरणा के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की और मदेरणा परिवार को ढांढस बंधाया. इसके बीच मैडम वसुंधरा राजे माहेश्वरी भवन भी पहुंचीं जहां पर समाजसेवी दामोदर बंग को श्रद्धासुमन अर्पित किए. इस दौरान दामोदर बंग द्वारा पार्टी को दी गई सेवाओं को याद किया गया.

fcolpb0uyag21v8
पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को अर्पित की श्रद्धांजलि

आपको बता दें, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का आज जोधपुर में ही ठहरने का प्रोग्राम है. मैडम राजे ने शाम को जोधपुर सर्किट हाउस में कार्यकर्ताओं और अपने समर्थकों से मुलाकात कर क्षेत्र में पार्टी की स्थिति और विकास को लेकर फीडबैक लिया.

यह भी पढ़ें- चाचा बोले- अगर मैं साथ होता तो देश में नंबर-1 होती सपा, 4 राज्यों में होती सरकार, भाजपा को भी घेरा

मैडम के खास सिपहसालारों ने संभाला मोर्चा
मैडम राजे के इस जोधपुर दौरे के दौरान उनके खास सिपहसालारों ने मोर्चा संभाले रखा. मैडम राजे के साथ पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, पूर्व मंत्री यूनुस खान, ओटाराम देवासी, अर्जुन गर्ग, अमरा राम चौधरी, मेघराज लोहिया, रामनारायण डूडी, कमसा मेघवाल, सांसद देवजी पटेल, पूर्व संसदीय सचिव कैलाश वर्मा, विधायक कालीचरण सराफ, सूर्य कांता व्यास, शंकर सिंह रावत, पुष्पेंद्र सिंह बाली, शोभा रानी, समाराम गरासिया, भाजपा नेता जसवंतसिंह विश्नोई, बीज निगम बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष शंभू सिंह खेतासर, साथ ही भाजपा नेता हरी सिंह रावत, सांग सिंह, बाबू सिंह राठौड़, मदन राठौड़, अध्यक्ष महेंद्र राठौड़, विनीता सेठ, जोगाराम पटेल, जीवा राम चौधरी, श्रीराम भीचर, अमृता मेघवाल, विजय सिंह नांवा, संजना आगरी सहित दिग्गज नेता, कार्यकर्ता और समर्थक मौजूद रहे.

Leave a Reply