बदजुबानी की सियासी होड़ में शामिल हुए केंद्रीय मंत्री बघेल, सीएम गहलोत के लिए बोले अमर्यादित बोल

चुनाव प्रचार के लिए वल्लभनगर पहुंचे केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल ने लांघी सारी मर्यादाएं, कहा- एक हजार झूठे जिस दिन मरे होंगे उस दिन अशोक गहलोत पैदा हुए होंगे, जिसकी बात में फर्क होता है, उसके बाप में फर्क होता है, अशोक गहलोत केवल घोषणा मुख्यमंत्री हैं, ऐसे में उन्हें नया नाम घोषणा गहलोत दे रहा हूं

0
केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल ने लांघी भाषा की सारी मर्यादाएं
केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल ने लांघी भाषा की सारी मर्यादाएं
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. पॉलिटॉक्स न्यूज़ ने हाल ही में अपनी खबर में बताया था कि राजस्थान में भाजपा नेताओं की जुबान इन दिनों जहर उगल रही है. एक के बाद एक विवादित और अमर्यादित बयानों की झड़ी सी लगी हुई है. भारतीय जनता पार्टी में क्या ‘प्रधान’, क्या विधायक और क्या जिला प्रमुख सभी की जुबानें बेलगाम हो चली हैं. लेकिन अब तो प्रदेश भाजपा के नेताओं के साथ-साथ प्रदेश में चुनाव प्रचार के लिए आने वाले बीजेपी के केंद्रीय नेता भी अनुशाषित मानी जाने वाली पार्टी का मजाक उड़ाते नजर आ रहे हैं. बदजुबानी की सियासी होड़ में शामिल होने वल्लभनगर पहुंचे केंद्रीय न्याय-विधि राज्य मंत्री एसपी सिंह बघेल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि एक हजार झूठे जिस दिन मरे होंगे उस दिन अशोक गहलोत पैदा हुए होंगे. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बघेल यहीं नहीं रूके, किसानों का सम्पूर्ण कर्जा माफी का चुनावी वादा पूरा करने की बात पर बघेल ने भाषा की मर्यादा की सारी सीमाएं लांघते हुए यहां तक कह डाला कि जिसकी बात में फर्क होता है, उसके बाप में फर्क होता है.

यह भी पढ़ें: ये क्या हुआ भाजपा नेताओं को, ‘प्रधान’ तो प्रधान, विधायक के बाद अब जिला प्रमुख भी हुए बद्जुबान!

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का नया नाम घोषणा गहलोत- बघेल
राजस्थान की वल्लभनगर और धरियावद सीट पर विधानसभा का घमासान जारी है. चुनाव प्रचार में दोनों प्रमुख पार्टियों के नेता एक-दूसरे को नीचा दिखाने में लगे हुए हैं. इसी बीच बुधवार को बीजेपी प्रत्याशी के चुनाव प्रचार के दौरान वल्लभनगर के खरसान में आयोजित एक चुनावी रैली को सम्बोधित करते हुए केंद्रीय न्याय-विधि राज्य मंत्री एसपी सिंह बघेल ने कहा कि, ‘भाजपा ने कहा था किसानों का कर्जा माफ करेगी और किया भी, मगर अशोक गहलोत ने कहा था कि कर्जे माफ कर देंगे मगर नहीं किया, किया हो तो बताओ, 24 घण्टे बिजली देंगे- दी हो तो बताओ.’ यही नहीं, सीएम अशोक गहलोत पर निशाना साधते हुए बघेल ने कहा कि अशोक गहलोत केवल घोषणा मुख्यमंत्री हैं, ऐसे में उन्हें नया नाम घोषणा गहलोत दे रहा हूं. क्योंकि उन्होंने उनके कार्यकाल में सिर्फ लोक लुभावनी घोषणाएं और कोरे वादे किए गए हैं.

वल्लभनगर से बीजेपी प्रत्याशी हिम्मत सिंह झाला के चुनावी प्रचार के दौड़ना खरसान में बोलते हुए मोदी सरकार में मंत्री एसपी सिंह बघेल ने आगे कहा कि राजस्थान महिला अत्याचार और दलित उत्पीड़न में नम्बर वन हो गया है. लेकिन आत्ममुग्ध कांग्रेस सरकार हकीकत से मुंह मोड़ रही है. बघेल ने कहा कि कोरोना कुप्रबंधन की वजह से हजारों लोग राजस्थान में परेशान हुए और मुख्यमंत्री गहलोत समेत पूरी सरकार होटलों में बंद रही. इसके साथ ही बघेल ने कहा कि गहलोत सरकार के लोग पेपर आउट करवा कर बेरोजगारों के अरमानों का गला घोंट रहे हैं.

यह भी पढ़ें: पायलट बोले- दिवंगत मेघवाल की जगह दलित को ही मंत्री बनाएगी सरकार तो बीजेपी को बताया बहरूपिया

केनकेंद्रीय न्याय-विधि राज्य मंत्री एसपी सिंह बघेल ने आगे कहा कि इससे बड़ी विडंबना क्या होगी कि प्रदेश के कांग्रेस सरकार के पौने तीन साल के कार्यकाल में 18 महीने तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने घर से बाहर तक नहीं निकले. बघेल ने आरोप लगाते हुए आगे कहा कि किसी पार्टी के लिए घोषणा पत्र पवित्र ग्रंथ होता है, लेकिन 3 साल में गहलोत घोषणा पत्र की घोषणाओं को पूरा नहीं कर पाए. यही नहीं बघेल ने आगे कहा कि 3 साल में बच्चा चलने लगता है लेकिन गहलोत सरकार 3 साल बाद अभी भी घिसट ही रही है.

Leave a Reply