थककर ट्रैक पर सो गए पैदल लौट रहे एमपी के मजदूर, सभी मजदूरों को मालगाड़ी के एक डिब्बे ने कुचला

औरंगाबाद के दर्दनाक हादसे में मालगाड़ी की चपेट में आए सभी मजदूर थे मध्यप्रदेश से, सीएम शिवराज सिंह ने किया 5-5 लाख के मुआवजे का ऐलान, मामले की जांच के आदेश, प्रधानमंत्री मोदी, राहुल गांधी, गहलोत, शिवराज, कमलनाथ और दिग्विजय सिंह सहित कई ने व्यक्त किया शोक

0
Aurangabad औरंगाबाद
Aurangabad औरंगाबाद

पॉलिटॉक्स न्यूज. कोरोना संकट की विपत्ति की घड़ी में देश में अल्प सुबह एक दर्दनाक और दिल दहला देने वाले हादसे की घटना सामने आई है. महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेल की पटरी पर प्रवासी मजदूरों को एक मालगाड़ी ने रौंद दिया. औरंगाबाद के जालना रेलवे लाइन के पास ये हादसा हुआ है. हादसे में 16 मजदूरों की मौत हो गई है जबकि कई अन्य मजदूर घायल बताए जा रहे हैं. ये हादसा औरंगाबाद-जालना रेलवे लाइन पर शुक्रवार सुबह 6.30 बजे के करीब हुआ है. रेल मंत्री ने इस घटना के जांच के आदेश दिए हैं. इसी बीच सीएम शिवराज सिंह ने मृतकों के परिवार को 5-5 लाख के मुआवजे का ऐलान किया है. वहीं पीएम मोदी, राहुल गांधी, अशोक गहलोत सहित कई नेताओं ने घटना पर शोक व्यक्त किया है.

दक्षिण सेंट्रल रेलवे की चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर का कहना है कि औरंगाबाद में कर्माड के पास एक हादसा हुआ है, जहां मालगाड़ी के एक खाली ड्ब्बे की चपेट में आने से कुछ लोगों की मौत हो गई. आरपीएफ और स्थानीय पुलिस मौके पर मौजूद है. भारतीय रेलवे की ओर से इस हादसे को लेकर जो बयान जारी किया गया है, उसमें कहा गया है कि औरंगाबाद से कई मजदूर पैदल सफर कर आ रहे थे. कुछ किलोमीटर चलने के बाद ये लोग ट्रैक पर आराम करने के लिए रुके. उस वक्त मालगाड़ी आई और उसकी चपेट में कुछ मजदूर आ गए. ये सभी प्रवासी मजदूर अपने घर पैदल जा रहे थे, जिस दौरान ये हादसा हुआ. घटना के बाद स्थानीय प्रशासन और रेलवे के अधिकारी मौके पर पहुंचे.

यह भी पढ़ें: दर्दनाक और शर्मनाक खबर: कोरोना मरीजों के वार्ड में रखे हैं शव भी, आखिर मरीज जाए कहां?

भारतीय रेलवे की ओर से जारी प्रेस रिलीज़ के मुताबिक, जिन मजदूरों की मौत हुई है, वो सभी मध्य प्रदेश के रहने वाले थे और महाराष्ट्र के जालना में एसआरजी कंपनी में कार्यरत थे. 5 मई को इन सभी मजदूरों ने जालना से अपना सफर शुरू किया, पहले ये सभी सड़क के रास्ते आ रहे थे लेकिन औरंगाबाद के पास आते हुए इन्होंने रेलवे ट्रैक के साथ चलना शुरू किया.

बताया जा रहा है कि कुछ मजदूर लॉकडाउन और रोजगार के ठप होने के चलते पैदल ही घर वापसी के लिए रवाना हो गए. करीब 36 किमी. पैदल चलने के बाद वे पटरियों पर आराम करने के लिए रूके और थककर सो गए. इनमें से 16 लोग ट्रैक पर सोए, 2 बराबर में और बाकी तीन कुछ दूरी पर सोए. इसी बीच मालगाड़ी का डब्बा आ गया और इन सभी को कुचलते हुए निकल गया. हादसे में 16 मजदूरों की जान चली गई और कुछ घायल हो गए. मजदूरों का सामान आस पास बिखरा हुआ मिला है. घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया है.

हादसे के बाद रेल मंत्रालय की ओर से जांच के आदेश दिए गए हैं जबकि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है. घायलों के इलाज पर नज़र रखी जा रही है. इधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख व्यक्त किया है. पीएम मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रेल हादसे में जानमाल के नुकसान से बेहद खौफजदा हैं. रेल मंत्री पीयूष गोयल से बात हो चुकी है और वह स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं. आवश्यक हर संभव सहायता प्रदान की जा रही है.

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी घटना पर शोक व्यक्त करते हुए लिखा कि मालगाड़ी से कुचले जाने से मजदूर भाई-बहनों के मारे जाने की ख़बर से स्तब्ध हूं. हमें अपने राष्ट्र निर्माणकर्ताओं के साथ किये जा रहे व्यवहार पर शर्म आनी चाहिए. मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि बड़ी दुखद घटना है कि कई प्रवासी कामगारों की ट्रेन से कुचलकर औरंगाबाद में मौत हो गई. शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना.

औरंगाबाद रेल हादसे पर कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने भी दुख जताया. दिग्गी राजा ने कहा कि मध्यप्रदेश के मज़दूरों के ट्रेन से कुचलकर मौत की खबर सुनी. दुख हुआ कि रोड से लेकर पटरी तक मज़दूर जगह जगह दम तोड़ रहे हैं. सरकारों को सोचना होगा कि आख़िर कहाँ चूक हो रही है? क्यों आख़िर जहान बचाने निकले मज़दूर अपनी जान से हाथ धो बैठे?

वहीं मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि औरंगाबाद से अपने घर लौट रहे कई श्रमिक भाइयों के ट्रेन हादसे में आकस्मिक निधन का दुखद समाचार मिला. ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने तथा घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं. उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात करने और घायल श्रमिकों के उपचार में अच्छी व्यवस्था करने की बात कही.

एमपी के पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि एक मालगाड़ी की चपेट में आने के कारण 16 मज़दूरों की मृत्यु और कई के घायल होने की दुःखद खबर है. मैं इस हादसे पर गहरी संवेदना व्यक्त करते हुये घायलों के शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना करता हूं. सरकार तत्काल शवों को पहुंचाने/लाने की व्यवस्था करे व आर्थिक मदद का ऐलान करे.

वहीं राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने घटना पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि महाराष्ट्र के औरंगाबाद में ट्रेन की चपेट में आने से कई प्रवासी श्रमिकों की मृत्यु होने की खबर हृदयविदारक है. इस दुःखद घड़ी में मेरी गहरी संवेदनाएं श्रमिकों के परिजनों के साथ हैं. ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शांति एवं शोक संतप्त परिजनों को संबल प्रदान करें.

प्रदेश की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने अपने शोक संदेश में लिखा कि औरंगाबाद में दुर्भाग्यपूर्ण ट्रेन त्रासदी से दुखी हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना. मैं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करती हूं.

Leave a Reply