कोरोना काल में सरकार का एक और नवाचार, ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श सुविधा की आज से शुरुआत

प्रदेश में चित्तौडगढ में फूटा कोरोना बम एक ही दिन में 40 नए केस आए सामने, वहीं प्रदेश में 114 नए केस आए सामने तो 114 मरीज हुए पॉजिटिव से नेगिटिव, 98 को किया डिस्चार्ज तो 3 की हुई मौत

0
ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श सुविधा की शुरुआत
ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श सुविधा की शुरुआत

पॉलिटॉक्स न्यूज़/राजस्थान. बीते रविवार प्रदेश के चित्तौडगढ में कोरोना ब्लास्ट हुआ जिसके चलते 40 नए मरीज एक दिन में सामने आए वहीं प्रतापगढ में कोरोना संक्रमण के कारण पहली मौत हो गई. प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में बढोतरी के साथ साथ पॉजिटिव से नेगेटिव हो रहे मरीजों की संख्या में इजाफा लगातार जारी है. रविवार को जहां प्रदेश में 114 नए पॉजिटिव केस सामने आए वहीं 114 मरीज प्रदेशभर में पॉजिटिव से नेगेटिव भी हुए. इसके साथ ही 98 ओर मरीजों को डिस्चार्ज भी किया गया.

प्रदेश में कोरोना कहर के कारण अन्य बीमारियों के मरीजों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े, इसी के मध्यनजर राज्य सरकार चिकित्सा के क्षेत्र में एक ओर नवाचार करते हुए ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श सुविधा आज से शुरू करने जा रही है. इसके तहत सामान्य बीमारी वाले मरीज घर बैठे चिकित्सकीय सेवाएं निःशुल्क प्राप्त कर सकेंगे. इससे अस्पतालों में आने-जाने से भी बचा जा सकेगा, जोकि लाॅकडाउन में बेहद जरूरी है.

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक 30 चिकित्सकों के माध्यम से सामान्य बीमारियों के लिए ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श सुविधा प्राप्त कर सकता है. प्रदेश में चिन्हित 100 चिकित्सा संस्थानों पर इस वेब पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन टेली-कन्सल्टेशन सेवाएं मरीजों को दी जाएंगी. इसके लिए 240 चिकित्सकों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है. यह योजना चरणबद्ध तरीके से लागू की जाएगी और आवश्यकतानुसार सेवाओं का विस्तार किया जाएगा, ताकि मरीजों को बेहतर सेवाएं दी जा सके. मंत्री शर्मा ने आगे कहा कि मरीजों द्वारा टेली-कन्सल्टेंसी सेवा का अधिक से अधिक प्रचार भी किया जाना चाहिए.

ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श सुविधा लेने के लिए सबसे पहले मरीज को esanjeevaniopd.in पोर्टल से अपना मोबाइल नम्बर ओटीपी के माध्यम से सत्यापित कर पंजीकरण करवाना होगा. इसके बाद पेशेंट आईडी और टोकन नंबर मरीज के मोबाइल पर एसएमएस के जरिए भेज दिए जाएंगे. मरीज अपने मोबाइल नम्बर या पेशेंट आईडी या टोकन नंबर डालकर सिस्टम में लॉग-इन करना होगा. इसके बाद नम्बर आने पर मरीज ऑनलाइन चिकित्सक से परामर्श प्राप्त सकेगा. टेली-कन्सल्टेशन पूर्ण होने पर चिकित्सक द्वारा दिया गया परामर्श भी डाउनलोड किया जा सकेगा. इसकी सूचना भी मरीज के मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से प्राप्त होगी.

बता दें, प्रदेश के 29 जिलों में अब तक कोरोना का संक्रमण फैल चुका है. प्रदेश में रविवार देर रात तक जयपुर में 993, जोधपुर-632, कोटा-209, अजमेर-168, टोंक-134, नागौर-118, भरतपुर-114, चित्तौढगढ-67, बांसवाडा-66, झुंझुनू-42, झालावाड-40, बीकानेर और भीलवाडा 37-37, जैसलमेर-35, दौसा-21, चुरू और उदयपुर में 14-14, पाली-13, धौलपुर-12, हनुमानगढ और अलवर में 11-11, सवाई माधोपुर-8, डूंगरपुर-7, सीकर-6, प्रतापगढ-4, करौली-3, राजसमंद और बाडमेर में 2-2 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुके है.

रविवार को कोरोना संक्रमण के चलते राजधानी जयपुर में 2 और प्रतापगढ में 1 कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हो गई. जयपुर के 52 वर्षीय रामगढ मोड निवासी और 85 वर्षीय स्टेशन रोड निवासी व्यक्ति की जयपुर के एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई. इसके साथ ही प्रतापगढ में 35 वर्षीय व्यक्ति की जिला अस्पताल प्रतापगढ में मौत हो गई. प्रतापगढ में अब तक कोरोना से हुई यह पहली मौत थी. इस तरह प्रदेश में अब कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 71 पहुंच गया है.

यह भी पढ़ें: तेज हुआ प्रवासियों के आवागमन का सिलसिला, गहलोत ने दिए निर्देश क्वारेंटाइन की पूरी पालना करें प्रवासी

गौरतलब है कि जोधपुर और जैसलमेर में ईरान से रेस्क्यू कर लाये गये भारतीयों में से 61 पॉजिटिव केस सामने आ चुके है. इसके अलावा जयपुर में इटली के 2, इन सभी को मिलाकर अब तक प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2886 वहीं प्रदेश में 3 ओर संक्रमित मरीजों की मौत हो जाने से अब तक कोरोना से मरने वालों की संख्या बढकर 71 हो चुकी है. प्रदेश में अब तक सामने आए 2886 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से 1356 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हो चुके है जिनमें से 923 को डिस्चार्ज किया जा चुका है.

Leave a Reply