प्रियंका की नीयत में खोट, दिल नहीं है साफ, कांग्रेस शासित राज्यों में क्यों नहीं है महिला आरक्षण- सिंह

यूपी चुनाव का दंगल, प्रियंका ने योगी-मोदी को लिया निशाने पर तो भड़की अदिति- कांग्रेस शासित राज्यों में क्यों नहीं लागू करवाती हैं महिला आरक्षण, लखीमपुर पर जताती हैं दुख, राजस्थान-पंजाब और छत्तीसगढ़ के अन्याय क्यों नहीं आते नजर, कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतने के बाद अपनी ही पार्टी से मुखर हैं अदिति

0
प्रियंका की नीयत में खोट, दिल नहीं है साफ
प्रियंका की नीयत में खोट, दिल नहीं है साफ
Advertisement2

Politalks.News/UttarPradesh. विधानसभा चुनाव हो या फिर आम चुनाव इससे पहले कांग्रेस के सामने समस्याओं का आडम्बर खड़ा ही रहता है. यूपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी पूरे दमखम के साथ आगे बढ़ रही है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी लगातार प्रदेश की योगी सरकार पर हर मुद्दे को लेकर हमलावर है. लेकिन कांग्रेस और विवाद के चोली दामन के साथ के कारण अब यूपी में कांग्रेस अपनों के ही निशाने पर है. कांग्रेस से बागी विधायक अदिति सिंह अकसर अपने बयानों को लेकर सुर्ख़ियों में रहती है. इस बार अदिति सिंह ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पर बड़ा वार करते हुए कहा कि,’ प्रियंका गांधी की नीयत में खोट है और उनका दिल भी साफ नहीं है’.

रायबरेली सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह अकसर अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहती हैं. एक निजी मीडिया चैनल से बात करते हुए बागी विधायक अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि,’आखिर प्रियंका गांधी कांग्रेस शासित राज्यों में 40% महिलाओं के आरक्षण को लागू क्यों नहीं करती हैं.अदिति सिंह ने कांग्रेस पर दोहरी नीति अपनाने का भी आरोप लगया. बागी विधायक ने कहा कि.’कांग्रेस पार्टी की कांग्रेस शासित राज्यों के लिए अलग नीति है और दूसरे राज्यों के लिए अलग नीति है’. प्रियंका गांधी ने लखीमपुर की घटना को दुखद बताया था लेकिन किसी बड़े मामले के होने पर वह पंजाब, छत्तीसगढ़ और राजस्थान क्यों नहीं जाती हैं. क्या पंजाब,छत्तीसगढ़ और राजस्थान में रामराज्य चल रहा है’.

यह भी पढ़े: सिद्धू के ‘भाईजान’ पर पंजाब कांग्रेस में दो फाड़! तिवाड़ी ने कसा तंज तो परगट ने लिया पक्ष

वहीं लखीमपुर खीरी मामले में सीएम योगी को लिखी गई चिट्ठी को लेकर भी अदिति सिंह ने सवाल उठाये हैं. अदिति सिंह ने कहा कि ‘जहां तक लखीमपुर खीरी और अन्य मामलों की बात है, प्रियंका गांधी सबका राजनीतिकरण कर देती हैं. लखमीपुर खीरी मामले की सीबीआई जांच कर रही है, सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का संज्ञान लिया है. अगर उनके इन संस्थाओं में ही विश्वास नहीं है तो मुझ समझ में नहीं आता कि उनका किस पर विश्वास है.’

चुनाव से पहले अदिति ने प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘कांग्रेस के पास  अब कोई मुद्दा नहीं बचा है. प्रियंका गांधी की नीयत में खोट है और साथ ही उनका दिल साफ नहीं है.’ अदिति ने कहा कि, ‘कांग्रेस महासचिव सिर्फ राजनीति कर रही है, आप खुद देखिये प्रियंका गांधी के निजी सचिव पर FIR दर्ज की गई है. अब ऐसे में जब उनकी टीम ही दुरुस्त नहीं तब वो प्रदेश के लिए क्या करेंगी.’ बता दें कि अदिति रायबरेली से पांच बार विधायक रह चुके अखिलेश कुमार सिंह की बेटी हैं.

यह भी पढ़े: आज कत्ल की रात-कल शपथ ग्रहण, महामंथन के बाद सभी मंत्रियों के इस्तीफे, आलाकमान पर नजरें

यह पहला मौका नहीं है जब अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी के खिलाफ आवाज उठाई हो. इससे पहले लॉकडाउन के वक़्त भी अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी को आड़े हाथ लिया था. अदिति सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा था कि, ‘आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत, एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 ऑटो रिक्शा और एबुंलेंस जैसे वाहन, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र में क्यों नहीं लगाई गईं.’

अदिति सिंह 2017 में रायबरेली की सदर विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुनी गई थीं. लेकिन बाद में उनके कांग्रेस से रिश्ते तल्ख हो गए. उनकी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीजेपी से काफी नजदीकी है. वो अक्सर कांग्रेस की नीतियों के विरुद्ध बीजेपी सरकार के कामकाज की तारीफ करती नजर आती हैं. उन्होंने जम्मू कश्मीर से 370 हटाने का समर्थन किया था. इससे कांग्रेस को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी. कांग्रेस ने अदिति सिंह की सदस्यता खत्म करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष के यहां अपील की थी. लेकिन उसकी अर्जी खारिज कर दी गई.

Leave a Reply