नहीं थम रहा बवाल, अब सिद्धू खुद आए सवालों के घेरे में, कांग्रेसी नेताओं ने ही उठाए कार्यशैली पर सवाल

कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू के खिलाफ बगावत के आसार, विधायक कुलबीर जीरा और वरिंदरमीत पहाड़ा ने सिद्धू के रवैए पर उठाए सवाल तो वहीं सुनील जाखड़ ने भी किया सिद्धू पर पलटवार, पार्टी फोरम पर ही बात रखने की दी नसीहत

0
अब सिद्धू खुद आए सवालों के घेरे में
अब सिद्धू खुद आए सवालों के घेरे में
Advertisement2

Politalks.News/PunjabElection. पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में फिलहाल कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain) फिर चरणजीत सिंह चन्नी (CharanJeet Singh Channi) और अब सब पर सवाल उठाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhhu) खुद की ही पार्टी के नेताओं के निशाने पर आ गए हैं. विधानसभा चुनाव से पहले भले ही कांग्रेस आलाकमान ने दलित नेता चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बना पार्टी की अंदरूनी खींचतान को थामने की कोशिश की हो. लेकिन पहले जैसा ही नजारा अब फिर से सामने आने लगा है. पंजाब में अब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू के खिलाफ बगावत के आसार बन गए हैं. अब कैप्टन के खिलाफ बागी रहे कांग्रेसी MLA कुलबीर जीरा और वरिंदरमीत पहाड़ा ने सिद्धू के रवैए पर सवाल उठाए हैं तो वहीं सुनील जाखड़ ने भी सिद्धू पर पलटवार किया है. नेताओं का साफ तौर पर कहना है कि ‘सिद्धू को पार्टी फोरम पर अपनी बात रखनी चाहिए.’

दरअसल, पंजाब कांग्रेस के प्रधान एवं वरिष्ठ नेता नवजोत सिंह सिद्धू समय-समय पर अपनी ही सरकार और आलाकमान तक पर सवाल उठाते रहे हैं. इसी कड़ी में अब नवजोत सिद्धू ने शुक्रवार को अमृतसर में प्रेस कान्फ्रेंस करते हुए पूर्व पंजाब कांग्रेस प्रधान सुनील जाखड़ के नेतृत्व पर ही सवाल खड़े कर दिए. पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए सिद्धू ने कहा था कि ‘जो पंजाब कांग्रेस के पहले प्रधान थे, वो बड़े जोर-शोर से ट्वीट करते हैं. लेकिन क्या कभी उन्होंने ऐसी बात उठाई है, जैसे मुद्दे मैं उठा रहा हूं.’

यह भी पढ़े: हत्या के आरोप में मंत्री पद से हटा ये राजस्थानी देता है चन्नी को आदेश- हरीश चौधरी पर भड़के कैप्टन

अब नवजोत सिंह सिद्धू के इस बयान पर सुनील जाखड़ ने तो पलटवार तो किया ही साथ ही दो अन्य विधायकों ने भी सिद्धू के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद कर दी है. सुनील जाखड़ ने सिद्धू के बयान के साथ अकबर इलाहबादी का ट्वीट शेयर करते हुए कहा कि, ‘बुत हम को कहे काफ़िर, अल्लाह की मर्जी है, सूरज में लगे धब्बा, फ़ितरत के करिश्में हैं, बरकत जो नहीं होती, नीयत की खराबी है.’ साफ तौर पर जाखड़ ने भाजपा से कांग्रेस में आने पर सिद्धू को काफिर कह दिया. जाखड़ के ट्वीट के अनुसार सिद्धू इस तरह की बयानबाजी कर रहे हैं, जैसे कि उन्हें हाईकमान की मर्जी प्राप्त है. कांग्रेस में फिलहाल कुछ भी ठीक नहीं है बावजूद इसके जाखड़ ने अपने ट्वीट के जरिये सिद्धू की नीयत पर ही सवाल उठा दिए हैं.

वहीं सिद्धू द्वारा सीएम चन्नी पर उठाये गए सवाल और मरणव्रत पर बैठने को लेकर जीरा से कांग्रेस विधायक कुलबीर जीरा ने कहा कि ‘नवजोत सिद्धू की बात सही है कि लोग सवाल करते हैं. अगर बात करनी है तो सिद्धू को CM या डिप्टी CM के साथ बैठकर बात करनी चाहिए. इसका हल आपस में बैठकर ही निकल सकता है.’ तो वहीं गुरदासपुर से कांग्रेस MLA वरिंदरमीत पहाड़ा ने कहा कि ‘सिद्धू की रिपोर्ट खोलने की बात ठीक है. हम सब भी उस पर लगे हुए हैं. सिद्धू पार्टी प्रधान हैं और अपने ढंग से सरकार पर प्रेशर डाल रहे हैं. लेकिन उनका तरीका बिलकुल गलत है. मुझे लगता है कि सिद्धू को पार्टी प्लेटफार्म पर यह बात करनी चाहिए.’

यह भी पढ़े: क्या ढह जाएगा बसपा का अभेद किला? हाथी से उतरे शाह आलम तो मायावती बोलीं- लड़की का मामला है

कांग्रेस विधायकों की ये बयानबाजी कांग्रेस की सियासत के मायने में अहम है. सिद्धू के रवैये को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी कई बार सवाल उठा चुके हैं और उन्हें ‘अनस्टेबल‘ तक कह चुके हैं. यही वजह है कि बार-बार सीएम चन्नी और सरकार पर निशाने साध रहे सिद्धू का कांग्रेस के भीतर से ही विरोध होना शुरू हो गया है. सियासी गलियारों में तो ये भी चर्चा है कि सिद्धू जो चाहते थे वो उन्हें मिल चूका है और जैसा वो चाहते हैं वैसे काम प्रदेश सरकार कर रही है तो फिर वो समय समय पर अपनी ही सरकार पर सवाल क्यों उठाते हैं? ऐसे में अगर कांग्रेस आलाकमान इस कलह को समय रहते दूर नहीं कर पाया तो फिर चुनाव से पहले प्रदेश की सियासत में तूफ़ान आना तय है.

Leave a Reply