उपचुनाव की हार और बढ़ती दरार पर चिंतित आलाकमान, 5 दिसंबर को अमित शाह लेंगे सबकी क्लास

अमित शाह आएंगे गुटबाजी मिटाएंगे! राजस्थान में उपचुनाव की हार और गहराती खेमेबाजी को लेकर केन्द्रीय संगठन चिंतित, ऐसे में 5 दिसंबर को खुद अमित शाह आ रहे हैं जयपुर, कार्यसमिति और नेताओं को करेंगे संबोधित, एकजुटता की पिलाएंगे घुट्टी!

0
अमित शाह आएंगे और गुटबाजी खत्म करने की 'सियासी डोज' पिलाएंगे
अमित शाह आएंगे और गुटबाजी खत्म करने की 'सियासी डोज' पिलाएंगे
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. अमित शाह आएंगे और गुटबाजी खत्म करने की ‘सियासी डोज‘ पिलाएंगे. बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और देश के गृह मंत्री अमित शाह 5 दिसंबर को जयपुर आ रहे हैं. अमित शाह यहां बीजेपी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक लेंगे और साथ ही प्रदेश भर के जनप्रतिनिधियों के सम्मेलन को भी संबोधित करेंगे. शाह के दौरे की तैयारियों की जानकारी देने के लिए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की और बताया कि, ‘जनप्रतिनिधियों की जनता के प्रति जवाबदेही और पार्टी में उनके योगदान पर अमित शाह का मार्गदर्शन सभी कार्यकर्ताओं को मिलेगा‘. सियासी गलियारों में चर्चा है कि, ‘उपचुनाव की हार और गुटबाजी को लेकर केन्द्रीय संगठन काफी चिंतित है. इस मायने में शाह का यह दौरा भी कुछ खास होगा’.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने आज जयपुर में प्रेस वार्ता कर बताया कि, ‘केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह 5 दिसंबर को प्रदेश कार्यसमिति बैठक और जनप्रतिनिधि सम्मेलन को सम्बोधित करने जयपुर आयेंगे, जिससे राजस्थान भाजपा के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा और नई ऊर्जा का संचार होगा, जो पार्टी के मिशन 2023 की विजय को लेकर मील का पत्थर साबित होगा’. पूनियां ने बताया कि, ‘दो दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति बैठक 4 और 5 दिसंबर को जयपुर में आयोजित होगी, जिसमें 5 दिसंबर को विशेष सत्र को अमित शाह सम्बोधित करेंगे और इसके बाद करीब 10 हजार जनप्रतिनिधियों के सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे. इस सम्मेलन में नीचे से ऊपर तक पंचायत समिति सदस्य, जिला परिषद सदस्य, जिला प्रमुख, उप प्रमुख, प्रधान व उपप्रधान, विधायक और सांसद मौजूद रहेंगे’. सतीश पूनियां ने कहा कि, ‘इस सम्मेलन में जनप्रतिनिधियों की जनता के प्रति जवाबदेही और पार्टी में उनकी भागीदारी इन विषयों पर अमित शाह का मार्गदर्शन मिलेगा.

यह भी पढ़ें- राठौड़ की आक्रोश रैली में उमड़ा जनसैलाब, गहलोत को बताया इतिहास का सबसे कमजोर CM, जानिए क्यों?

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने बताया कि, ‘प्रदेश कार्यसमिति बैठक का शुभारम्भ 4 दिसंबर को होगा, जिसमें पार्टी की संगठनात्मक समीक्षा, आगामी कार्ययोजना, सम्पूर्ण किसान कर्जामाफी, बिजली, स्वास्थ्य, शिक्षा, बेरोजगारी, कानून व्यवस्था इन तमाम मुददों को लेकर आंदोलन की रणनीति और मिशन 2023 की विजय को लेकर विस्तृत चर्चा की जायेगी’. साथ ही पूनियां ने बताया कि, ‘आने वाले दिनों में प्रदेश की कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ बड़े आंदोलन होंगे, जिसकी शुरूआत मंडल स्तर से हो चुकी है. राजस्थान के हम सभी कार्यकर्ताओं की इच्छा थी कि माननीय अमित शाह का हमें मार्गदर्शन मिले, जो शाह ने हमारा आग्रह स्वीकार कर लिया है’.

Leave a Reply