सीएम गहलोत ने दिया बड़ा सियासी संदेश तो पायलट ने भी की सरकार की तारीफ, नारेबाजी ने निकाली हवा

राजस्थान में कांग्रेस का नया अवतार देख सभी सन्न, वल्लभनगर-धरियावद में दिखाने की कोशिश कि यहां सब है ठीक, पहले हैलीकॉप्टर फिर कार और बाद में मंच की तस्वीरें तैरती रहीं सोशल मीडिया पर, लेकिन मंच की कोशिशों को नारेबाजी से लगा झटका, भरी सभा में नारेबाजी पर सीएम ने मंच से लगाई फटकार, तो धैर्य पर पाठ पढ़ा दे गए बड़ा सियासी संदेश भी

0
गहलोत के गहरे सियासी संदेश चहुंओर चर्चा!
गहलोत के गहरे सियासी संदेश चहुंओर चर्चा!
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. राजस्थान में वल्लभनगर और धरियावद विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने नामांकन के साथ ही प्रचार अभियान का शंखनाद भी कर दिया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ‘हम साथ साथ हैं’ का संदेश देते हुए हैलिकॉप्टर, कार और फिर एक साथ मंच को शेयर करते दिखे. इसके अलावा सरकार के मंत्रियों और पार्टी पदाधिकारियों की मोर्चेबंदी भी यहां देखने को मिली. दोनों ही प्रत्याशियों की नामांकन सभा में मंच से कई संदेश दिए गए. तो कुछ ऐसा भी हुआ जो कांग्रेस में एकजुटता के दावों की पोल खोल गया. वहीं मंच से भाजपा और मोदी सरकार को किसानों और लखीमपुर मुद्दे पर जमकर घेरा गया. इसके साथ ही सचिन पायलट ने मंच से गहलोत सरकार की तारीफ की तो किसानों और लखीमपुर मुद्दे को लेकर भाजपा पर तानाशाही का आरोप लगाया.

नारेबाजी ने निकाली ‘हम साथ साथ हैं’ की हवा
दिन के हाइलाइट्स की बात करें तो कांग्रेस की ओर सीएम गहलोत और पायलट को एक साथ रख ये दिखाने की कोशिश की गई कि ‘हम साथ साथ हैं’ यानि एकजुट हैं. जयपुर से उदयपुर तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा एक ही हैलीकॉप्टर में गए. इसके बाद वल्लभनगर हैलीपेड से सभास्थल तक कार की ड्राइविंग सीट संभाली सचिन पायलट ने तो बगल की फ्रंट सीट पर बैठे अशोक गहलोत. इसी कार में पीछे की सीट पर अजय माकन और डोटासरा. हैलीकॉप्टर और कार में साथ साथ जाने की कई फोटो सोशल मीडिया पर तैरने ही लगी थी कि कुछ ऐसा हुआ कि सारी तैयारी धरी रह गई. वल्लभनगर की सभा में सीएम गहलोत के संबोधन के दौरान पायलट के कुछ उत्साही समर्थकों ने पायलट जिंदाबाद के नारे लगा दिए. फिर क्या था सीएम गहलोत भड़क गए और शांत रहने की हिदायत दे डाली. लब्बोलुआब यह रहा कि कांग्रेस एक नाव में सवार होने का जो दिखावा कर रही थी उसमें अचानक छेद हो गया.

जो रखता है धैर्य, उसको मिल ही जाता है कभी न कभी मौका- गहलोत

वहीं वल्लभनगर की सभा में सीएम गहलोत ने बड़ा सियासी संदेश देते हुए इशारों-इशारों में सचिन पायलट को नसीहत भी दे दी. सीएम गहलोत ने कहा कि, ‘कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक कार्यक्रम में कहा कि जो धैर्य रखता है उसको कभी न कभी मौका मिलता ही है.’ कांग्रेस में लम्बे समय से जारी सियासी खींचतान को देखते हुए सीएम गहलोत के इस बयान को बड़े सियासी संदेश के रूप में देखा जा रहा है. करीब एक साल से ज्यादा समय बीत गया है लेकिन सीएम गहलोत और पायलट कैंप में सियासी सुलह नहीं हो पाई है. पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट की मांगों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. इधर पायलट के जबरदस्त धैर्य और सधी हुई चुप्पी को लेकर सियासी गलियारों में बड़ा आश्चर्य है. आज के सीएम गहलोत के बयान को लेकर राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि सीएम गहलोत द्वारा अब सचिन पायलट के धैर्य की तारीफ की गई है. यही नहीं सीएम ने जल्द ही पायलट कैंप की मांगों पर कुछ डवलपमेंट किए जाने का संकेत दिया है. सीएम गहलोत के बयान के बाद पायलट कैम्प में मंत्री बनने की बात जो रहे विधायक भी उत्साह में दिख रहे हैं.

यह भी पढ़ें- अगले 50 साल मैं कहीं नहीं जाने वाला, सारे अधूरे काम पूरे करूंगा- इशारों में पायलट का एक और पलटवार

भविष्य का गेम प्लान भी बता गए गहलोत!

साथ ही अपने अगले कार्यकाल के दावे को आगे बढ़ाते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि, ‘हमारी सरकार ऐसा काम कर रही है कि फिर से प्रदेश में कांग्रेस की ही सरकार बने. हम वो काम करके दिखाएंगे ताकि हमें फिर से जनता का आशीर्वाद मिले.’ सीएम गहलोत ने कहा कि, ‘पहले हमारी सरकार कभी नरेन्द्र मोदी के नाम पर बदली किसी ओर के नाम से, लेकिन अबकी बार हम ऐसा काम करेंगे की लोग इस पर चिंतन करें और फिर से लोग कांग्रेस की सरकार बनवाएं.’ दरअसल सचिन पायलट कई बार मीडिया के सामने ये बयान दे चुके हैं कि हम काम करते हैं लेकिन हमारी सरकार रिपीट नहीं होती है. मंच से दिया गया सीएम अशोक गहलोत का यह बयान सचिन पायलट को दूसरा संदेश था. दोनों ही सभाओं में सीएम गहलोत ने भाजपा और मोदी सरकार को जमकर आड़े हाथ लिया साथ ही भाजपा पर जमकर तंज कसे. किसानों और लखीमपुर की घटना को लेकर भाजपा को आड़े हाथ तो लिया ही साथ ही गहलोत बोले कि, ‘हमने किसानों के भले के लिए जो कानून बनाए थे वो गवर्नर साहब के पास पड़े हैं.

गहलोत सरकार तारीफ करते हुए पायलट ने भाजपा को लिया आड़े हाथ

वल्लभनगर से प्रत्याशी प्रीति शक्तावत की नामांकन सभा में पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि, ‘पार्टी ने प्रीति शक्तावत को चुना है अब जिताना आप लोगों की जिम्मेदारी है. जैसे आपने गजेन्द्र जी को आशीर्वाद दिया था अब प्रीति जी को देना है’. पायलट ने कहा कि, ‘कांग्रेस ने आपकी बेटी, आपकी बहन और बहू को प्रत्याशी बनाया है‘.पायलट ने कहा कि, ‘भाजपा में टिकटों को लेकर घमासान मचा हुआ है जबकि कांग्रेस पार्टी एकजुट है. भाजपा ने सत्ता में रहते हुए जनता के साथ धोखा किया तो अब वो विपक्ष की भूमिका भी नहीं निभा पा रही है’. लखीमपुर कांड को लेकर पायलट ने कहा कि, ‘योगी सरकार में किसानों को कुचलने का काम हो रहा है और आरोपी खुले आम घूम रहे हैं. इधर किसानों के आंसू पोछने गई प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर लिया जाता है.ये भाजपा सरकार की तानाशाही है. गहलोत सरकार के कामकाज की ताऱीफ करते हुए पायलट ने कहा कि, ‘प्रदेश में कांग्रेस सरकार अच्छा काम कर रही है. हमारी सरकार ने इस क्षेत्र में कभी भी विकास में कमी नही रखी है आगे भी नहीं रखेंगे’.

यह भी पढ़ें – किसी को घमंड हो जाए कि मैं अंतिम समय तक सत्ता में रहूंगा, यह गलत है- चर्चाओं में पायलट का बयान

वहीं बात करें नामांकन की तो वल्लभनगर से कांग्रेस प्रत्याशी प्रीति शक्तावत और धरियावद से नगराज ने अपना अपना पर्चा भर दिया. कांग्रेस के लिए अभी तक राहत की बात यह है कि कांग्रेस में बगावत के सुर नहीं उठे. किसी बागी ने खेल बिगाडने की कोशिश नहीं की. लेकिन भीतरघात से इनकार नहीं किया जा सकता है खासकर वल्लभनगर में क्योंकि शक्तावत परिवार में टिकट को लेकर बड़ी माथापच्ची थी.

Leave a Reply