हेमाराम की CM गहलोत को दो टूक- मैंने विधायकी से दे दिया है इस्तीफा, मेरा किसी समिति से लेना-देना नहीं

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का दो दिन पहले फोन आया था, उन्होंने उपक्रम समिति की बैठक बुलाने के साथ बैठक की तारीख तय कर बताने को कहा, इस पर मैंने कहा कि मैंने अपने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है- हेमाराम चौधरी

0
हेमाराम की दो टूक- मैंने विधायकी से दे दिया है इस्तीफा
हेमाराम की दो टूक- मैंने विधायकी से दे दिया है इस्तीफा
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. लगभग दो महीने पहले इस्तीफा दे चुके कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी को मनाने की कोशिशें तेज हो गईं हैं. हाल ही में हेमराम चौधरी को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने उपक्रम समिति का सभापति मनाया था. सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दो दिन पहले हेमाराम चौधरी को फोन करके समिति की बैठक बुलाने को कहा था. लेकिन अपनी जिद पर अड़े विधायक हेमाराम चौधरी ने सीएम गहलोत से कहा कि आप जिस समिति की बात कर रहे हैं उससे मेरा कोई लेना-देना नहीं है, मैं विधायकी से इस्तीफा दे चुका हूं.

आपको बता दें कि गुड़ामालानी विधायक हेमाराम चौधरी ने गत 18 मई को विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. तब से ही विधायक हेमाराम चौधरी को मनाने का प्रयास पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा, पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट से लेकर कई नेता कर रहे हैं, लेकिन हेमाराम इस्तीफे पर अडिग हैं और हेमाराम के तेवरों से लग रहा है कि वे मानने वाले हैं. पिछले दिनों मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हेमाराम चौधरी को फोन पर मनाने की कोशिश करते हुए इस्तीफा वापस लेने को कहा है.

यह भी पढ़े: सियासी कलह पर फिर बोले पायलट- सड़कों पर खून पसीना बहाने वाले कार्यकर्ताओं को मिले सम्मान

विधायक हेमाराम चौधरी ने बताया कि, ‘मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का दो दिन पहले फोन आया था. उन्होंने उपक्रम समिति की बैठक बुलाने के साथ बैठक की तारीख तय कर बताने को कहा. इस पर मैंने मुख्यमंत्री को कहा कि मैंने अपने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है. मेरा इस समिति से कुछ लेना-देना नहीं है. आपको बता दें, हेमाराम चौधरी के इस्तीफे को विधानसभा अध्यक्ष ने स्वीकार नहीं किया है. स्पीकर जोशी ने हेमाराम को लॉकडाउन खत्म होने के बाद मिलने के लिए कहा था. हालांकि अनलॉक होने के बाद विधायक हेमाराम चौधरी ने विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी से मिलने का समय भी मांगा था, लेकिन लॉकडाउन का हवाला देकर मिलने से मना कर दिया था.

यह भी पढ़ें: RAS रिजल्ट पर डोटासरा बोले- ‘मेरे हाथ में होता तो सबको बना देता’, BJP बोली-टेलेंट की हो जांच

गौरतलब है कि हेमाराम चौधरी लगातार कह रहे हैं कि वे भी विधायकी से इस्तीफा वापस लेने के मूड में नहीं हैं. जानकारी के मुताबिक हेमाराम चौधरी उनके विधानसभा क्षेत्रों में विकास के कामों की अनदेखी को लेकर अभी भी नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने हेमाराम को आश्वासन दिया है कि गुड़ामालानी विधानसभा क्षेत्र में विकास के कार्यों के लिए कमी नहीं रखी जाएगी.

Leave a Reply