बेनीवाल ने कहा- एनडीए घटक दल का सदस्य जरूर हूं लेकिन किसी का नौकर नहीं हूं, किसानों के लिए राज्य के साथ केन्द्र सरकार से भी की मांग

बेनीवाल ने किया बाड़मेर कलेक्ट्रेट का घेराव, टिड्डियों से हुए नुकसान के लिए विशेष पैकेज की मांग की, किसानों की आवाज को लोकसभा में उठाता आया हूं आगे भी उठाऊंगा, राजस्थान में चल रहा है जंगलराज

0

पॉलिटॉक्स ब्यूरो. नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने गुरुवार सुबह बाड़मेर जिले के चौहटन विधानसभा क्षेत्र के धनाऊ पंचायत समिति के विभिन्न टिड्डी प्रभावित गांवों का दौरा किया. इसके बाद टिड्डी प्रभावित किसानों के फसल खराबे के मुआवजे के लिए विशेष राहत पैकेज देने व बढते टिड्डी प्रकोप को रोकने को लेकर बाड़मेर जिला कलेक्ट्रेट का घेराव-प्रदर्शन कर कलेक्टर को ज्ञापन सौपा.

बाड़मेर जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौपने के बाद पत्रकारों से रूबरू हुए सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि कल और आज मैंने टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया है. यहां टिड्डियों से बहुत ज्यादा नुकसान किसानों का हुआ है. राजनीति से ऊपर उठकर मैंने यहां विशेष मुआवजा किसानों को देने की मांग की है. किसानों की सभी फसलें यहाँ बर्बाद हो गई है. मैंने लोकसभा में भी इस मामले को पुरजोर तरीके से उठाया था. गहलोत सरकार अगर उस समय हरकत में आ जाती तो किसानों का इतना बड़ा नुकसान नहीं होता. मैं राज्य सरकार और दिल्ली सरकार से मांग करता हूं किसानों को कम से कम 10- 10 लाख का मुआवजा दें.

आगे बेनीवाल ने कहा कि बाड़मेर में जंगलराज चल रहा है पिछले दिनों भी मेरे ऊपर जानलेवा हमला हुआ था. आज भी एक सिरफिरे व्यक्ति ने मेरे ऊपर चाकू से हमला करने की कोशिश की. इसके साथ ही बेनीवाल ने कहा कि पूरे राजस्थान में जंगलराज चल रहा है. गहलोत और पायलट के झगड़े में प्रदेश की जनता पिस रही है. आम आदमी सुरक्षित नहीं है, रोजगार मिल नहीं रहे हैं, प्रदेश में अपराध बढ़ रहा है, नवजात बच्चे अस्पतालों में दम तोड़ रहे है. गहलोत सरकार को सबक सिखाने के लिए पंचायत चुनावों के बाद आरएलपी पार्टी प्रदेश भर में बड़े स्तर पर आंदोलन करेगी.

यह भी पढ़ें: अशोक गहलोत पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिनसे प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने उनके बयान पर स्पष्टीकरण मांगा है- पूनियां

इसके साथ ही बेनीवाल ने कहा कि जून-जुलाई के बाद एक बार फिर से टिड्डियों के दल ने क्षेत्र में हमला किया है. इसके लिए राज्य सरकार को कम से कम 20 से 30 हज़ार रुपये प्रति बीघा मुआवजे की घोषणा किसानों के लिए करनी चाहिए. किसानों की मांग मैं पुरजोर तरीके से लोकसभा में भी रखूंगा. मैं एनडीए घटक दल का सदस्य जरूर हूं लेकिन मैं किसी का नौकर नहीं हूं. किसानों की आवाज को लोकसभा में भी उसी तरीके से उठाऊंगा जिस तरीके से राजस्थान की सड़कों पर उठाऊंगा.

Leave a Reply