ईडी ने दिया कांग्रेस को बड़ा झटका, एजेएल व मोती लाल वोरा की 16.38 करोड़ रुपए की संपत्ति की अटैच

मोती लाल वोरा एजेएल के प्रबंधकीय निदेशक हैं और एजेएल, वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं द्वारा नियंत्रित है, जिसमें गांधी परिवार के सदस्य भी शामिल हैं, यह समूह नेशनल हेराल्ड अखबार चलाता है

0
राहुल गांधी मोती लाल वोरा
राहुल गांधी मोती लाल वोरा

पॉलिटॉक्स न्यूज़/दिल्ली. कोरोना कहर के बीच ईडी ने कांग्रेस को बड़ा झटक दिया है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कांग्रेस पार्टी की ओर से प्रवर्तित कंपनी एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) और कांग्रेस पार्टी के नेता मोती लाल वोरा की 16.38 करोड़ रुपए की संपत्ति कुर्क करने का आदेश जारी किया है. बताया जा रहा है को एक मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी द्वारा यह कार्रवाई की गई है.

प्रवर्तन निदेशालय ने बताया कि कुर्क की गई संपत्ति मुंबई में 9 मंजिला इमारत है, इसमें दो बेसमेंट भी हैं और 15 हजार स्क्वायर मीटर में बना हुआ है. इसकी कुल कीमत 120 करोड़ रुपए है. इमारत बांद्रा ईस्ट में ईपीएफ ऑफिस, कला नगर के पास प्लॉट नंबर 2 और सर्वे नंबर 341 पर है. ईडी ने आगे बताया कि इस केस में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और मोती लाल वोरा हैं. ईडी ने कहा कि हरियाणा के पंचकुला में अवैध रूप से आवंटित भूमि पर दिल्ली में बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित सिंडिकेट बैंक ब्रान्च से लोन लिया गया और इससे बांद्रा में यह इमारत खड़ी की गई है.

प्रवर्तन निदेशालय के अनुसार प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएल) के तहत प्रोविजनल अटैचमेंट आदेश एजेएल और मोती लाल वोरा के नाम जारी किया गया है. वोरा एजेएल के प्रबंधकीय निदेशक हैं और एजेएल, वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं द्वारा नियंत्रित है, जिसमें गांधी परिवार के सदस्य भी शामिल हैं. यह समूह नेशनल हेराल्ड अखबार चलाता है.

बता दें, नेशनल हेराल्ड अखबार की स्थापना 1938 में जवाहरलाल नेहरू ने की थी. उस समय से यह अखबार कांग्रेस का मुखपत्र माना जाता रहा. अखबार का मालिकाना हक एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड यानी ‘एजेएल’ के पास था. आजादी के बाद 1956 में एसोसिएटेड जर्नल को अव्यवसायिक कंपनी के रूप में स्थापित किया गया. वर्ष 2008 में ‘एजेएल’ के सभी प्रकाशनों को निलंबित कर दिया गया और कंपनी पर 90 करोड़ रुपए का कर्ज भी चढ़ गया.

यह भी पढ़ें: ओवैसी की पार्टी के नेता के विवादित बोल- ‘कोरोना तो केवल बहाना, मुसलमानों को नपुंसक है बनाना’

इसके बाद कांग्रेस नेतृत्व ने ‘यंग इंडियन प्राइवेट लिमिटेड’ नाम की एक नई अव्यवसायिक कंपनी बनाई जिसमें सोनिया गांधी और राहुल गांधी सहित मोतीलाल वोरा, सुमन दुबे, ऑस्कर फर्नांडिस और सैम पित्रोदा को निदेशक बनाया गया. नई कंपनी में सोनिया गांधी और राहुल गांधी के पास 76 प्रतिशत शेयर थे जबकि बाकी के 24 प्रतिशत शेयर अन्य निदेशकों के पास थे.

Leave a Reply