‘तू इधर उधर की बात न कर, ये बता कि क़ाफ़िला कैसे लुटा’- राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछा सवाल

राष्ट्र के नाम पीएम मोदी ने जारी किया संदेश, 80 करोड़ गरीबों को नवंबर तक मुफ्त राशन की घोषणा, भाषण में नहीं किया चीन सीमा विवाद का जिक्र तो कांग्रेस हुई हमलावर

0
Rahul Gandhi Vs Narendra Modi
Rahul Gandhi Vs Narendra Modi

पॉलिटॉक्स न्यूज. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक बार फिर कोरोना काल में राष्ट्र को संबोधित किया. करीब 15 मिनिट के अपने संबोधन में पीएम मोदी ने देश के 80 करोड़ गरीबों को नवंबर तक मुफ्त राशन देने की घोषणा की. ताजा संबोधन से पहले कयास लगाए जा रहे थे कि प्रधानमंत्री पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों और चीन भारत के संकट के बारे में कुछ बोलेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इसके बाद कांग्रेस प्रधानमंत्री मोदी पर हमलवार अंदाज में आ गई है. चीन का जिक्र न होने पर कांग्रेस ने पीएम पर निशाना साधा और कहा कि चीन की आलोचना करने वाली बात भूल जाएं, अपने राष्ट्रीय संबोधन में इसका जिक्र करने से भी डरते हैं. वहीं राहुल गांधी ने शायराना अंदाज में पीएम मोदी पर निशाना साधा.

राहुल गांधी ने तंज कसते हुए पीएम मोदी के लिए ट्वीटर पर लिखा, ‘तू इधर उधर की न बात कर, ये बता कि क़ाफ़िला कैसे लुटा, मुझे रहज़नों से गिला तो है, पर तेरी रहबरी का सवाल है.’

वहीं पीएम के संबोधन से पहले पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक वीडियो जारी करते हुए पेट्रोल और डीजल के दामों को लेकर मोदी सरकार को घेरा. राहुल गांधी ने कहा कि पिछले तीन महीने में 22 बार दाम बढ़ाए गए हैं. पिछले तीन महीनों में कोरोना ने देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाया. सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों को हुआ. कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री मोदी से कोरोना के इस संकट काल में न्याय जैसी कोई योजना चलाने की अपील की थी.

राहुल गांधी ने कहा कि गरीबों के खातों में 7500 रुपये मासिक कुछ महीनों के लिए डाले जाएं ताकि मांग बढ़ सके और अर्थव्यवस्था का चक्का घूम सके. इसके अलावा, राहुल गांधी ने सवाल पूछा कि चाइना की फौज को देश की सीमा से कब निकालेंगे और कैसे?

यह भी पढ़ें: चीन का विकल्प ढूंढने में सालों लग जाएंगे भारत को- चीनी मीडिया

वहीं कांग्रेस भी प्रधानमंत्री मोदी पर पूरी तरह से हमलावर रही. कांग्रेस ने ट्वीटर पर #StopBhaashanTakeAction कैंपेन चला दिया है. एक ट्वीट में कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री को अनियोजित लॉकडाउन से देशवासियों को हुए फायदे बताने चाहिए. कोरोना नियंत्रण के लक्ष्य में तो लॉकडाउन पूर्णतया विफल साबित हुआ है. देश जानना चाहता है कि अनियोजित लॉकडाउन के तय लक्ष्यों को देश पा सका है या नहीं?

अपने अन्य ट्वीट में कांग्रेस ने कहा कि लगता है प्रधानमंत्री अपने संबोधन में चीन का जिक्र करना भूल गए. कांग्रेस ने ये भी कहा कि पीएम अपने राष्ट्रीय संबोधन में चीन के बारे में बात करने से भी डरते हैं.

कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक तस्वीर भी लगाई जिसमें चीन के बारे में लिखा गया है. तस्वीर पर लिखा है, चीन भारत की सीमा में 423 मीटर तक घुसपैठ कर गया. कांग्रेस के मुताबिक, 25 जून तक भारतीय सीमा में चीन के 16 टेंट और टरपॉलिन हैं. चीन का एक बड़ा शेल्टर है, साथ ही तकरीबन 14 गाड़ियां हैं. कांग्रेस ने पूछा है कि क्या प्रधानमंत्री इसे नकार सकते हैं? कांग्रेस ने कहा कि भारत को ऐसे नेता की जरूरत है जो असफलता को स्वीकार करे और उसमें सुधार की गुंजाइश बची हो. ऐसे नेता की जरूरत नहीं है जो परेशानियों को दरकिनार करे और उस पर बात करने से बचे.

कांग्रेस ने यह भी कहा कि जानकर खुशी हुई कि प्रधानमंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आग्रह पर गौर किया है जिसमें गरीबों को मुफ्त अनाज देने की योजना को आगे बढ़ाने की मांग की गई थी.

यह भी पढ़ें: चीन सीमा विवाद: विपक्ष के सवालों के जवाब में आरोप लगाकर आखिर क्या छिपा रही है मोदी सरकार?

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों के लिए पौने दो लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया. बीते 3 महीनों में 20 करोड़ गरीब परिवारों के जनधन खातों में सीधे 31 हजार करोड़ रुपए जमा करवाए गए हैं. इस दौरान 9 करोड़ से अधिक किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं. सरकार ने कोरोना से लड़ते हुए भारत में 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, यानि परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया है.

पीएम मोदी ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि मानसून के दौरान भारत में सबसे ज्यादा खेती का काम होता है. ऐसे में सरकार ने फैसला किया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का विस्तार होगा और इसके तहत नवंबर तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली ये योजना अब जुलाई, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर और नवंबर में भी लागू रहेगी. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के इस विस्तार में 90 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च होंगे. अगर इसमें पिछले तीन महीने का खर्च भी जोड़ दें तो ये करीब-करीब 1.5 लाख करोड़ रुपए हो जाता है.

यह भी पढ़ें: जब चीनी सेना भारतीय सीमा में अंदर आई ही नहीं, तो उसके पीछे हटने की बात कहां से आई?

पीएम मोदी ने एक राष्ट्र-एक राशन कार्ड का भी जिक्र किया. साथ ही देशवासियों से कोरोना काल में हर हाल में नियमों का पालन करने की अपील की. उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ते लड़ते हम अनलॉक-2 में प्रवेश कर रहे हैं. साथ ही हम उस मौसम में भी प्रवेश कर रहे हैं जिसमें सर्दी, जुकाम बढ़ जाते हैं, इसलिए आप सबसे अपील है कि खुद का ख्याल रखें. उन्होंने कहा कि भारत में गांव का प्रधान हो या फिर देश का प्रधान कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है. पीएम मोदी ने हाथ धोने, मास्क पहनने और सामाजिक दूरी को बनाए रखने की देशवासियों से अपील की.

Leave a Reply