पैदल निकल पड़े श्रमिकों के लिए बस-ट्रेनों के साथ रास्ते में कैम्प व भोजन की उचित व्यवस्था हो- गहलोत

प्रदेश में शनिवार को 129 नए केस आए सामने वहीं 3 की हुई मौत, अपने घरों की ओर पैदल निकल रहे श्रमिकों से सीएम गहलोत ने कहा अपने घरों के लिए पैदल न निकलें, मेडिकल इमरजेंसी, मृत्यु या अत्यावश्यक मामलों में सहानुभूतिपूर्वक जल्द से जल्द पास जारी करें

0
1588082561 1 Aaa
1588082561 1 Aaa

पॉलिटॉक्स न्यूज़/राजस्थान. प्रदेश में पैर पसारता कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. प्रदेश के 14 जिलों से शनिवार को 129 नए केस सामने आए वहीं प्रदेश में 3 ओर मरीजों की मौत हो गई. कोरोना कहर के चलते प्रदेश में दिहाडी मजदूरों की रोजी रोटी पर बडी बडा संकड खडा हो गया है और अब लोग अपने घरों की ओर पैदल पलायन को मजबूर हैं. इसको लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि काम धंधे खत्म हो जाने के बाद लॉकडाउन के कारण फंसा हुआ कोई श्रमिक अपने गृह स्थान के लिए पैदल रवाना नहीं हो. राज्य सरकार उन्हें बसों एवं ट्रेनों के माध्यम से अपने-अपने गृह स्थानों पर पहुंचाने के लिए उचित व्यवस्थाएं कर रही है. सीएम गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो श्रमिक पैदल रवाना हो गए हैं, उनके लिए रास्ते में कैम्प एवं भोजन सहित अन्य व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें. कोई श्रमिक भूखा-प्यासा नहीं रहे. संकट की इस घड़ी में हर व्यक्ति के जीवन की रक्षा और उनके दुःख-दर्द को बांटना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को अपने निवास पर प्रवासियों के आवागमन को लेकर उच्च स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली. इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि लॉकडाउन के कारण फंसे हुए जिन प्रवासियों एवं श्रमिकों ने आवागमन के लिए पंजीयन करवाया है. उन्हें ई-पास प्राप्त करने में किसी तरह की परेशानी नहीं आए. इसके लिए ई-पास के सिस्टम को और बेहतर बनाएं. जिन प्रवासी एवं श्रमिकों को ई-पास प्राप्त हो गए हैं, उन्हें ट्रेनों के माध्यम से भेजने के लिए समय पर सूचना दी जाए, ताकि वे ट्रेन के शेड्यूल के अनुसार निर्धारित स्टेशन पर पहुंच सकें.

मेडिकल इमरजेंसी एवं मृत्यु के मामलों में आसानी से दें पास

मेडिकल इमरजेंसी, मृत्यु या अत्यावश्यक कार्यों को लेकर पास की प्रक्रिया को और सुगम बनाएं तथा ऐसे मामलों में सहानुभूतिपूर्वक जल्द से जल्द पास जारी करें, ताकि लोगों को अनावश्यक पीड़ा नहीं झेलनी पडे़. इसके साथ ही सीएम गहलोत ने आगे निर्देश देते हुवे कहा कि अत्यावश्यक कार्य होने पर अंतर जिला आवागमन के लिए ई-पास के साथ-साथ ऑफलाइन पास की प्रक्रिया शुरू की जाए. इसके लिए संबंधित थाने एवं एसडीएम कार्यालय को अधिकृत किया जाए. इसके साथ ही यह व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए कि लोगों को थाने एवं एसडीएम कार्यालय नहीं जाना पडे़, उन्हें मोबाइल के माध्यम से ही पास प्राप्त हो जाए.

भारतीय रेलवे से समन्वय कर बढ़वाएं ट्रेनों की संख्या

मुख्यमंत्री गहलोत ने अधिकारियों को आगे निर्देशित करते हुए कहा कि फंसे हुए श्रमिकों एवं प्रवासियों को जल्द से जल्द उनके गृह स्थानों पर सुरक्षित पहुंचाया जा सके, इसके लिए भारतीय रेलवे से समन्वय कर ट्रेनों की संख्या बढ़वाई जाए. इसके साथ ही जिन स्थानों की दूरी कम है, वहां बसों से लोगों को उनके गृह स्थान भिजवाया जाए. सीएम गहलोत ने आगे कहा कि तकलीफ झेल रहे श्रमिकों एवं प्रवासियों का सकुशल आवागमन जरूरी है, लेकिन इनकी स्क्रीनिंग एवं क्वारेंटाइन की व्यवस्था में किसी तरह की लापरवाही नहीं हो. बाहर से आने वाले हर व्यक्ति का होम या संस्थागत क्वारेंटाइन सुनिश्चित किया जाए.

यह भी पढ़ें: कोरोना से जारी जंग में केंद्र ने राजस्थान को दी भरपूर सहायता, गहलोत छुपा रहे हैं तथ्य- अनुराग ठाकुर

बता दें, प्रदेश के 31 जिलों में अब कोरोना का संक्रमण फैल चुका है. प्रदेश में शनिवार देर रात तक जयपुर में 1196, जोधपुर-862, कोटा-233, अजमेर-211, टोंक और चित्तौढगढ में 136-136, नागौर-119, भरतपुर-116, उदयपुर-103, बांसवाडा-66, पाली-60, झालावाड-47, भीलवाडा-43, झुंझुनू-42, बीकानेर-38, जैसलमेर-35, दौसा-22, धौलपुर-21, अलवर-20, चुरू-17, राजसमंद-15, हनुमानगढ-11, सवाई माधोपुर-10, सीकर और डूंगरपुर में 9-9, जालोर-7, करौली-5, प्रतापगढ और बाडमेर 4-4, सिरोही-3, बांरा-1 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुका है. शनिवार देर रात तक कोरोना संक्रमण के चलते राजधानी जयपुर में 2, चूरू में-1 कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हो गई. इस तरह प्रदेश में अब कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 106 पहुंच गया है.

इसके साथ ही जोधपुर में दिल्ली से लौटे बीएसएफ के 42 जवानों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. इससे पहले जोधपुर और जैसलमेर में ईरान से रेस्क्यू कर लाये गये भारतीयों में से 61 पॉजिटिव केस सामने आये थे, जयपुर में कोरोना के शुरूआती दौर में पॉजिटिव आए इटली के 2 मरीज, इन सभी की रिपोर्ट अब पॉजिटिव से नेगेटिव हो चुकी है ओर इन सभी को डिस्चार्ज किया जा चुका है. इन सभी को मिलाकर अब तक प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 3708 वहीं प्रदेश में 3 ओर संक्रमित मरीजों की मौत हो जाने से अब तक कोरोना से मरने वालों की संख्या बढकर 106 हो चुकी है. प्रदेश में अब तक सामने आए 3708 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से 2162 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हो चुके है जिनमें से 1895 को डिस्चार्ज किया जा चुका है.

Leave a Reply