कोरोना से जारी जंग में केंद्र ने राजस्थान को दी भरपूर सहायता, गहलोत छुपा रहे हैं तथ्य- अनुराग ठाकुर

केंद्र सरकार द्वारा समय-समय पर जारी राहत पैकेज और घोषणाओं से मध्यम वर्ग और युवाओं को संबल मिला है, लेकिन गहलोत सरकार की अकर्मण्यता और झूंठे वादों से ठगे गए, राज्य के मध्यम और गरीब वर्ग और युवाओं-किसानों के कल्याण के लिए भारत सरकार अब और अधिक प्रयास करे- पूनियां

0
Img 20200509 082106
Img 20200509 082106

पॉलिटॉक्स न्यूज़/राजस्थान. कोरोना कहर के चलते जारी संकट के इस समय में सभी राज्य सरकारों की हालत खराब है. केंद्र सरकार द्वारा संकट के इस समय में सभी राज्यों को विभिन्न योजनाओं के माध्यम से आर्थिक मदद केंद्र सरकार द्वारा की जा रही है. केंद्र द्वारा की जा रही मदद को लेकर शुक्रवार को केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से आॅनलाइन चर्चा की. इस दौरान अनुराग ठाकुर ने भाजपा नेताओं से चर्चा करते हुए कहा कि भारत सरकार ने संकट के इस समय में राजस्थान की भरपूर मदद की है. प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मोदी सरकार से मिली सहायता के मामले में तथ्य छिपा कर बात कर रहे है. यही नहीं राजस्थान सरकार द्वारा राहत कार्यों में राजनैतिक आधार पर भेदभाव की चर्चा दिल्ली तक है.

मंत्री अनुराग ठाकुर ने प्रदेश भाजपा के नेताओं को आंकड़ो के साथ बताया की केंद्र सरकार ने केवल अप्रेल महीने में राजस्थान के उज्ज्वला योजना के 34 लाख 68 हज़ार 116 उपभोक्ताओं को मुफ्त गैस सिलेण्डर दिया है. 38 लाख 64 हज़ार लाभार्थियों के लिए 10 हज़ार 483 मेट्रिक टन दालें भेजी है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत प्रदेश के 4 करोड़ 36 लाख 51 हज़ार 850 लोगों के लिए 2 लाख 18 हज़ार 259 मेट्रिक टन अनाज भेजा है. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के 51 लाख 64 हज़ार 372 किसानों के खाते में प्रति किसान 2 हज़ार रुपए की राशि डाली है. इसके साथ ही प्रधानमंत्री जनधन के 1 करोड़ 52 लाख 4 हज़ार 427 खातों में प्रतिमाह 500 रुपए की राशि डाली गई है.

अप्रैल महीने में राज्य सरकार को 2 हज़ार 753 करोड़ रुपए टेक्स हस्तांतरण के तहत, 741 करोड़ रुपए राज्य आपदा फ़ंड के तहत, 503 करोड़ जीएसटी कंप्शेसन के तहत, सहित कुल 4 हजार 685 करोड़ रुपए की राशि हस्तांतरित की गई है. इसके साथ ही मंत्री ठाकुर ने आगे कहा कि और भी अन्य बहुत तरीक़ों से केंद्र सरकार ने राजस्थान सरकार को मदद की है लेकिन मुख्यमंत्री गहलोत और उनके मंत्री जनता से तथ्य छिपा रहे है. मंत्री ठाकुर ने आगे कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री को ईमानदारी से अपनी जनता को ये बताना चाहिए की उन्होंने राज्य सरकार के ख़ज़ाने से कितने रुपए उनके लिए खर्च किए.

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए प्रदेश के लघु और मध्यम उद्यमियों, प्रोफेशनल्स और व्यापार जगत के लोगों से कोविड-19 के दौर में अर्थव्यवस्था के बेहतर संचालन के लिए सुझाव लिए. प्रदेश भर से जुड़े लोगों ने ठाकुर को सुझावों के साथ उनको हो रही समस्याओं से भी अवगत करवाया. प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां भी इस कांफ्रेंसिंग में शामिल रहे.

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकारों को दी शराब की होम डिलीवरी की सलाह, तो हाईकोर्ट ने गहलोत सरकार को थमाया नोटिस

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनियां ने वीसी के दौरान मंत्री अनुराग ठाकुर से प्रवासी श्रमिकों की वापसी और सुलभ बनाने, खेती और किसान को संबल देने, नाई, धोबी, खाती, मोची और टैक्सी चालकों की समस्याओं के समाधान करने का आग्रह किया. इसक साथ ही पूनियां ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा समय-समय पर जारी राहत पैकेज और घोषणाओं से मध्यम वर्ग और युवाओं को संबल मिला है. लेकिन गहलोत सरकार की अकर्मण्यता और झूंठे वादों से ठगे गए, राज्य के मध्यम और गरीब वर्ग और युवाओं-किसानों के कल्याण के लिए भारत सरकार अब और अधिक प्रयास करे.

केंद्रिय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ हुई इस आॅनलाइन चर्चा के दौरान प्रदेश भाजपा के प्रभारी अविनाश राय खन्ना, राष्ट्रीय सह-संगठन महामंत्री वी सतीश, प्रदेश अध्यक्ष डा.सतीश पूनियां, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया, उप-नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, अर्जुन मेघवाल और कैलाश चौधरी मौजूद रहे.

Leave a Reply