सीएम गहलोत ने केंद्र सरकार से की मनरेगा मजदूरों को घर बैठे मजदूरी देने की मांग

राजस्थान में फिलहाल करीब 12 लाख लोग कर रहे हैं मनरेगा में काम, 30 लाख लोगों को रोजगार देने का है सरकार का लक्ष्य, श्रमिकों की तरह मनरेगा के मजदूरों को भी घर बैठे मजदूरी मिलनी चाहिए क्योंकि लॉकडाउन के कारण उसे रोजगार नहीं मिल पाया

0
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

पॉलिटॉक्स न्यूज/राजस्थान. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गरीबों एवं दिहाड़ी मजदूरों को लेकर बेहद चिंतित हैं. सीएम गहलोत की मांग पर केंद्र सरकार ने देश में लॉकडाउन के चलते विभिन्न राज्यों में फंसे श्रमिकों को घर जाने की अनुमति प्रदान की. वहीं सीएम गहलोत ने अब केंद्र सरकार से मजदूरों के हक में मनरेगा के मजदूरों को घर बैठे वेतन देने की मांग की है. साथ ही मीडिया को भी केंद्र सरकार के सामने इस मुददे को उठाने के लिए कहा है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को एक निजी न्यूज चैनल पर बातचीत के दौरान कहा कि लॉकडाउन में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना मनरेगा के मजदूरों को घर बैठे वेतन मिलना चाहिए. सीएम गहलोत ने आगे कहा कि केन्द्र सरकार ने उद्योगपतियों को लॉकडाउन में श्रमिकों को घर बैठे तनख्वाह देने की बात कही है, जो सही है. जब तक लॉकडाउन चले, श्रमिकों की तरह मनरेगा के मजदूरों को भी घर बैठे मजदूरी मिलनी चाहिए क्योंकि लॉकडाउन के कारण उसे रोजगार नहीं मिल पाया. यह बहुत बड़ा मुद्दा है. सीएम गहलोत ने कहा है कि मीडिया को भी केंद्र सरकार के समक्ष इस मुद्दे को उठाना चाहिए.

मुख्यमंत्री गहलोत ने आगे कहा कि राज्य में मनरेगा के काम में प्रगति हुई है. इस माह लॉकडाउन के कारण 17 अप्रैल तक मनरेगा में एक लाख लोगों को इसके तहत रोेेेेेेजगार मिल रहा था जबकि अब तक 12 लाख लोगों को रोजगार मिल रहा हैं. हमारा लक्ष्य इसे 30 लाख तक पहुंचाने का है. सीएम गहलोत ने कहा कि यूपीए सरकार की महत्वाकांशी योजना है जिसमें सभी ग्रामीण श्रमिकों को रोजगार की गारंटी दी जाती है.

यह भी पढ़ें: प्रवासियों को लाने में विफ़ल रही गहलोत सरकार करे प्रवासियों के लिए राहत पैकेज की घोषणा- पूनियां

सीएम अशोक गहलोत ने कोरोना को लेकर कहा कि राज्य में सभी लोग मिलकर कोरोना से लड़ रहे हैं. सरकार भी सतर्क एवं मुस्तैद हैं और ज्यादा से ज्यादा टेस्ट किए जा रहे हैं. अभी राज्य में प्रतिदिन 10 हजार लोगों की जांच होने लगी है जिसे 25 हजार प्रतिदिन तक बढ़ाने का लक्ष्य है. सीएम गहलोत ने आगे कहा कि अभी पता नहीं है कि कोरोना कब खत्म होगा इसलिए सरकार ने पूरी तैयारी कर रखी है. उन्होंने लॉकडाउन के बाद भी लंबे समय तक मास्क लगाने की बात कही है.

यह भी पढ़ें: प्रवासी मजदूरों की घर वापसी का खर्चा उठाएगी कांग्रेस, सोनिया गांधी ने की घोषणा

Leave a Reply