‘मोदी को वोट न दिए जाने की वजह से सजा दी जा रही है दिल्ली को’- सोशल मीडिया से

सोशल मीडिया पर आज की हलचल

0
Social media viral
Social media viral

पॉलिटॉक्स ब्यूरो. नागरिकता कानून पर प्रदर्शन राजधानी दिल्ली में अब हिंसक हो चला है. मौजपुरी, कबीरनगर, करावल नगर सहित कई जगहों पर पुलिस के साथ आम लोगों की झड़क हुई. लगातार तीसरे दिन हिंसा और उपद्रव का दौर जारी रहा. गोकलपुरी के टायर मार्केट को उपद्रवियों ने फूंक दिया. पुलिस प्रशासन के अनुसार, अब तक 10 मौत भी हो चुकी है. 150 आम नागरिकों के अलावा 56 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. अब दिल्ली हिंसा की गूंज सोशल मीडिया पर भी आ गई है. बयानबाजी का दौर बदस्तूर जारी है. बयानवीरों की इस लिस्ट में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, बीजेपी नेता कपिल मिश्रा से लेकर जावेद अख्तर और लेखक चेतन भगत तक शामिल है. एक फिल्मी कलाकार ने तो यहां तक लिखा कि मोदी को वोट न दिए जाने की वजह से दिल्ली को सजा दी जा रही है.

एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन औवैसी ने दिल्ली के एक पूर्व विधायक पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी से कहा कि जो सांप आप पाल रहे हैं वो एक दिन आपको ही काट लेंगे. (ओवैसी का इशारा बीजेपी नेता कपिल मिश्रा की ओर है).

वहीं कपिल मिश्रा ने अपनी ट्वीटर हैंडल से एक वीडियो शेयर करते हुए दिल्ली पुलिस को तीन दिन का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि जाफराबाद और चांद बाग की सड़कें खाली करवाइए. इसके बाद हमें मत समझाइयेगा. हम आपकी भी नहीं सुनेंगे.

दिल्ली की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज राजघाट पर आप नेताओं के साथ बैठकर दिल्ली के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की. ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, ‘हम सभी मिलकर अपने शहर में शांति बहाल करने के लिए सभी प्रयास करते हैं. मैं फिर से सभी को हिंसा से दूर करने का आग्रह करता हूं’. इस संबंध में उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात भी की.

लेखक जावेद अख्तर भी अपनी कुंठा रोक नहीं पाए और ट्वीट करते हुए लिखा, ‘दिल्ली में हिंसा का स्तर किस कदर बढ़ गया है. सब कपिल मिश्रा बेपर्दा हो रहे हैं. ऐसा माहौल बनाया जा रहा है कि दिल्ली के आम निवासियों को ये यकीन दिलाया जा सके कि ये सब सीएए के विरोध प्रदर्शन के कारण हो रहा है और कुछ समय बाद दिल्ली पुलिस इसका समाधान निकाल लेगी’.

दिल्ली हिंसा पर प्रतिक्रिया देने में नेता ही नहीं बल्कि बॉलीवुड भी पीछे नहीं है. फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने ट्वीट करते हुए कहा कि जो हो रहा है, इतना तो साफ है कि PRO-CAA का मतलब Anti-Muslim है बस और कुछ नहीं.

​वहीं फिल्म कलाकार एजाज खान ने लिखा, ‘दिल्ली को मोदी को वोट न दिए जाने की वजह से सजा दी जा रही है. वह हमारी राजधानी में ‘जय श्री राम’ चिल्लाते हुए आग लगा रहे हैं. आप कब तक इसका समर्थन करेंगे? आप इसे तभी रोकेंगे, जब यह आग आपके घर तक पहुंच जाएंगे?’

फिल्म मेकर विशाल भारद्धाज ने कहा कि अंडा मछली छूकर जिनको पाप लगे, उनका पूरा हाथ लहू में डूबा है.

लेखक चेतन भगत ने भी दिल्ली हिंसा पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने लिखा, ‘पापा ड्राइंग रूम में मेहमानों के साथ बैठे हैं और परिवार के सदस्य दूसरे कमरे में जोर-जोर से लड़ रहे हैं’. यहां पापा मतलब पीएम मोदी और मेहमान मतलब अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप हैं.

बीजेपी दिल्ली के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी ट्वीट कर लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है.

बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘राजनाथ सिंह को एंटी सीएए हिंसा से निपटने के लिए अमित शाह को सेना बुलाने की सलाह देनी चाहिए. अगर अमितजी सहमत होते हैं तो यह हमारी लोकतांत्रिक परंपरा के लिए एक आघात होगा लेकिन इस हिंसा को समाप्त करना हमारे लोकतंत्र के जीवित रहने के लिए उतना ही महत्वपूर्ण है. एंटी सीएए आंदोलन राष्ट्र विरोधी है’.

Leave a Reply