कांग्रेस में गांधी परिवार से लागू होगा एक परिवार-एक टिकट का ‘नव-संकल्प’, शिविर के प्रस्तावों पर लगी मुहर

सोनिया गांधी की अध्यक्षता में हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में कांग्रेस को पुनः संगठित और स्थापित करने के लिए लिए गए कई महत्वपूर्ण निर्णय, जिनमें एक परिवार में एक ही व्यक्ति को टिकट देने, अहम पद पर रहने के बाद तीन साल का कूलिंग ऑफ पीरियड होने और पैनलों में बड़ी संख्या को कम करने, राहुल गांधी को देशभर में दौरे करने, MSP को लेकर कानून बनाने की घोषणा जैसे महत्वपूर्ण 'नव-संकल्पों' शिविर में होगा चिंतन

0
img 20220510 122816
img 20220510 122816
Advertisement2

Politalks.News/Bharat/Congress. देश की आजादी के बाद से अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही सबसे पुरानी कांग्रेस (Congress) एक बार फिर एक्टिव मोड़ में आती नजर आ रही है. आगामी 13 से 15 मई तक राजस्थान के उदयपुर में होने वाले ‘नव संकल्प चिंतन शिविर‘ (Nav Sankalp Chintan Shivir) के दौरान पार्टी में संगठन स्तर पर बड़े बदलाव की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. सोमवार को पार्टी अध्यक्षा सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) की अध्यक्षता में हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक में कांग्रेस को पुनः संगठित और स्थापित करने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं. जिनमें एक परिवार में एक ही व्यक्ति को टिकट देने, अहम पद पर रहने के बाद तीन साल का कूलिंग ऑफ पीरियड होने और पैनलों में बड़ी संख्या को कम करने जैसे महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर मुहर लग गई है. यहां तक कि पार्टी में एक परिवार एक टिकट के प्रस्ताव के तहत खुद गांधी परिवार में से किसी एक को ही टिकट मिलेगा, यानी इस नियम की शुरुआत आलाकमान खुद के ऊपर लागू करके करेगा. ऐसे में बाकी दिग्गजों के तो आनाकानी करने की कोई गुंजाइश ही नहीं रह जाती है.

आपको बता दें, उदयपुर में होने वाले कांग्रेस के ‘नव संकल्प चिंतन शिविर’ इन सभी संकल्पों को लागू किया जाएगा, इसीलिए इस शिविर का नाम नव-संकल्प रखा गया है. जानकारों की मानें तो 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी उन सभी पेचों को कस लेना चाहती है, जहां कोई भी ढिलाई नजर आ रही है. इसी के तहत उसने पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और मध्य प्रदेश में नए प्रदेश अध्यक्षों की नियुक्ति की है. इसके अलावा यूपी और बिहार जैसे राज्यों के लिए भी प्लानिंग करने में जुटी है. यही नहीं राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ पर भी पार्टी की नजर है, जहां अगले साल के अंत में चुनाव होने हैं.

यह भी पढ़ें: 300 करोड़ की रिश्वत को ठोकर मारने वाले गवर्नर सत्यपाल मलिक ने अब हिंदू-मुसलमान को दी ये नसीहत

एक परिवार एक टिकट की घोषणा गांधी परिवार से होगी लागू!
पार्टी से जुड़े कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस आलाकमान को सुझाव दिया गया था कि प्रदेश अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष या राष्ट्रीय कार्यकारिणी शामिल नेताओं को एक कार्यकाल पूरा होने के बाद तीन सालों तक पद से दूर रखा जाना चाहिए, जिस पर सहमति बन गई है. इसके अलावा एक परिवार से एक ही व्यक्ति को टिकट देने को लेकर भी सोमवार को हुई CWC की बैठक में सहमति बनी है. पार्टी का मानना है कि इससे वह भाजपा की ओर से लगाए जा रहे परिवारवाद के आरोपों का जवाब दे सकेगी. कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद एक नेता ने कहा, ‘एक परिवार एक टिकट के प्रस्ताव पर सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका गांधी खुद ऐलान करेंगे कि 2024 के आम चुनाव में परिवार का एक ही व्यक्ति लड़ेगा.’

पूरे देश भर में दौरा करेंगे राहुल गांधी
इसके साथ ही सोमवार को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग में कुछ नेताओं ने कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने के लिए देश भर में राहुल गांधी का दौरा कराए जाने का भी सुझाव दिया है. इन नेताओं ने सुझाव दिया कि राहुल गांधी को देश के सभी राज्यों की यात्रा करनी चाहिए ताकि पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं में उत्साह का संचार हो सके. हालांकि पार्टी के अध्यक्ष और संगठन चुनावों को लेकर कोई प्रस्ताव नहीं पेश किया गया है.

यह भी पढ़ें: BJP में टिकट की आस लगाए बैठे नेतापुत्रों को प्रभारी राव के ट्वीट के बाद विजयवर्गीय के बयान से झटका

किसानों के लिए MSP गारंटी कानून बनाने की करें घोषणा
सबसे महत्वपूर्ण भूपिंदर सिंह हुड्डा की लीडरशिप में किसानों को लेकर बनी एक कमिटी ने भी अपनी सिफारिशें दी हैं. इनमें सबसे अहम सिफारिश यह है कि 2024 के आम चुनाव के मध्यनजर पार्टी ऐलान करे कि जब वह केंद्र की सत्ता में आएगी तो फिर किसानों के एमएसपी गारंटी का कानून बनाया जाएगा. इसके अलावा यह भी सुझाव दिया गया है कि एमएसपी से कम कीमत पर खुले बाजार में उत्पाद को खरीदने वाले लोगों को सजा दी जाएगी और ऐसा करना अपराध होगा.

Leave a Reply