किरोड़ी मीणा की राजनीति खत्म, धरने-प्रदर्शन का बचा है काम- रमेश मीणा, मदेरणा के बयान पर कसा तंज

किरोड़ी लाल मीणा खुद एक अपराधी हैं और उनके खिलाफ भी पांच केस हैं दर्ज, गहलोत सरकार में तुरंत निर्णय होता है, हमारे एक विधायक ने सरेंडर भी किया है, किरोड़ी मीणा पर पांच आपराधिक मामले प्रमाणित हैं, उनको भी सरेंडर करना चाहिए- रमेश मीणा, दिव्या मदेरणा द्वारा डीजीपी पर निशाना साधने के मामले में भी दिया बयान

0
img 20220513 wa0144
img 20220513 wa0144
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. बीते रोज गुरुवार को उदयपुर पहुंचे बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा (Kirori Lal Meena) के साथ पुलिस द्वारा किए गए दुर्व्यवहार के बाद जहां एक और बीजेपी नेताओं में जबरदस्त रोष व्याप्त है तो वहीं गहलोत सरकार में पंचायती राज मंत्री रमेश चन्द्र मीणा (Ramesh Meena) ने डॉ मीणा पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘किरोड़ी लाल मीणा का सूर्य अब अस्त हो चुका है, उनके पास धरना-प्रदर्शन के अलावा और कोई काम नहीं बचा है.’ गुरुवार को करौली कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक में मंत्री रमेश मीणा ने सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं की समीक्षा की एवं अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए.

किरोड़ी लाल मीणा खुद एक अपराधी
कलेक्ट्रेट में बैठक के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान मंत्री रमेश मीणा ने सांसद किरोड़ी लाल मीणा पर कमाकर6हमला बोला. हाल ही में भीलवाड़ा में हुई हिंसा के बाद सांसद किरोड़ी लाल मीणा की ओर से बयान दिया गया था कि पीएफआई के गुंडों को गहलोत सरकार ने संरक्षण दे रखा है. इस मामले मंत्री रमेश मीणा ने कहा कि किरोड़ी लाल मीणा खुद एक अपराधी हैं और उनके खिलाफ भी पांच केस दर्ज हैं. रमेश मीणा ने कहा कि कांग्रेस की गहलोत सरकार में तुरंत निर्णय होता है. हमारे एक विधायक ने सरेंडर भी किया है. डॉ. किरोड़ी लाल मीणा पर पांच आपराधिक मामले प्रमाणित हैं. किरोड़ी मीणा को भी सरेंडर करना चाहिए. वह खुद अपराधी हैं और दूसरों के खिलाफ बात करते हैं जो ठीक नहीं है.

यह भी पढ़ें: गहलोत जी उदयपुर कांग्रेस की जागीर है क्या? किरोड़ी मीणा मामले को लेकर भड़के बीजेपी के दिग्गज

यही नहीं बीजेपी नेता किरोड़ी लाल मीणा ओर बड़ा हनला5जारी रखते हुए गहलोत के मंत्री मंत्री रमेश मीणा ने कहा कि वह किरोड़ीलाल के बारे में ज्यादा चर्चा नहीं करेंगे क्योंकि किरोड़ी लाल मीणा का सूर्य अस्त हो चुका है. राजनीति खत्म हो चुकी है और वे अब थाने, तहसील के सामने धरना देते रहते हैं बाकी कुछ नहीं है. इसके साथ ही हाल ही में कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा द्वारा मंत्री महेश जोशी और विधायक मलिंगा के मामले में डीजीपी पर साधे गये निशाने के मामले पर मंत्री रमेश मीणा ने कहा कि किसी के बोलने से कुछ नहीं होता है. लोकतंत्र में बोलने का सबको अधिकार है. सरकार अपना काम कर रही है पुलिस अपना काम कर रही है जो भी सही तथ्थ होगा वह सामने आ जाएगा.

इससे पहले पंचायत राज मंत्री रमेश मीणा ने अधिकारियों के साथ हुई समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि आमजन को सरकार की जन-कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए. ये अधिकारी की प्राथमिकता होनी चाहिए. उन्होंने कार्यों में अनियमितता बरतने वाले और लापरवाही के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ जांच कराकर सख्त करवाई करने की चेतावनी दी. वहीं मीडिया से मुखातिब होते हुए मंत्री रमेश मीणा ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशानुसार जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक की गई और बजट घोषणाओं पर चर्चा की गई. किसी योजना में अगर समस्या आ रही है तो उसका समाधान करवाया जाएगा. अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि जो भी योजना अधूरी पड़ी हैं उसको पूरा कराया जाए. आमजन की समस्याओं का समाधान भी समय पर हो जाए.

यह भी पढ़े: कांग्रेस में क्षमता, नेतृत्व, नेता और हैं थिंक टैंक, हमें नहीं किसी की जरुरत- PK को लेकर हुड्डा का बड़ा बयान

मंत्री रमेश मीणा ने बताया कि जिले की मूलभूत सुविधाएं पानी, बिजली, सड़क, स्वास्थ्य सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी और जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक बैठक में मौजूद रहे. उनसे समस्याओं को लेकर चर्चा की गई है और साफ दिशा निर्देश दिए गए हैं कि पारदर्शिता के साथ काम किया जाए. भष्टाचार और अपराध पर लगाम लगाई जाए. करौली जिले में ज्यादा से ज्यादा विकास हो इसपर फोकस रहेगा.

Leave a Reply