REET पेपर लीक मामले में गर्माई सियासत, भाजपा बोली- अब CBI ही कर सकती है निष्पक्ष जांच

REET पेपर लीक मामले में SOG ने किया गिरोह का पर्दाफाश, SOG के खुलासे के बाद भाजपाई दिग्गज गहलोत सरकार पर हमलावर, सीबीआई जांच की उठाई मांग, पूनियां बोले- 'धांधली साबित, सरकार के संरक्षण के बिना संभव नहीं', राठौड़ बोले- 'पेपर माफिया के राजनीतिक आकाओं से घनिष्ठ संबंध'

0
REET पेपर लीक मामले में गर्माई सियासत
REET पेपर लीक मामले में गर्माई सियासत
Advertisement2

Politalks.News/Rajasthan. मरुधरा (Marudhra) में चल रही भीषण शीतलहर के बीच रीट (Reet Paper Leak) मामले को लेकर SOG के खुलासे ने सियासत को गर्मा दिया है. SOG ने रीट पेपर लीक मामले में गिरोह का पर्दाफाश किया है और आरोपी भजनलाल (Bhajan lal Vishnoi) से पूछताछ जारी है. SOG के खुलासे ने जहां गहलोत सरकार (Gehlot Government) के दावों की पोल खोल दी है वहीं इस मामले को लेकर भाजपाई दिग्गज भी सरकार पर हमलावर हैं. बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने एक बार फिर रीट में धांधली की सीबीआई जांच की मांग उठाते हुए इसे जरूरी बताया है. दोनों ही दिग्गजों ने एक के बाद एक ट्वीट किए हैं. इनसे पहले राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल इस मामले में सीबीआई जांच की मांग कर चुके हैं. किरोड़ी मीणा आरोपी भजन लाल को प्यादा और बोर्ड अध्यक्ष डीपी जारौली को सरगना बताते रहे हैं. सियासी जानकारों की माने तो भाजपा इस मामले को आसानी से छोड़ने वाली नहीं है, इस मामले को लेकर भाजपा की ओर से जयपुर में बड़ा प्रदर्शन किए जाने की तैयारी चल रही है.

धांधली साबित, सरकार के संरक्षण के बिना संभव नहीं- पूनियां
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कहा है कि, ‘प्रदेश सरकार बड़े मगरमच्छों को बचाने की पूरी कोशिश करेगी. एसओजी की जांच, गिरफ्तार हुए 35 आरोपियों से पूछताछ और शिक्षा संकुल के पेपर स्टोरेज सेंटर से एग्जाम से एक दिन पहले पेपर निकालने के कुबूलनामे के बाद यह पूरी तरह प्रमाणित हो गया है कि रीट परीक्षा में भारी धांधली हुई है. यह सब कांग्रेस सरकार के संरक्षण के बिना सम्भव नहीं था. इसलिए निष्पक्ष जांच जरूरी है, अब देखना है कि नैतिकता की दुहाई देने वाली सरकार इस मामले को सीबीआई को कब सौंपती है?

यह भी पढ़ें- शिक्षा संकुल से ही लीक हुआ था REET का पेपर- डॉ किरोड़ी मीणा के दावे पर अब लगाई SOG ने मुहर

पेपर माफिया के राजनीतिक आकाओं से घनिष्ठ संबंध- राठौड़
विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा है कि, ‘एसओजी की ओर से जयपुर में शिक्षा संकुल से रीट भर्ती परीक्षा का पेपर लीक होने की बात स्वीकार कर ली गई है. जिससे साफ है कि रीट परीक्षा में बड़े लेवल पर धांधली हुई है. अब सरकार को तुरंत मामले की जांच सीबीआई को सौंपनी चाहिए. प्रदेश में होने वाली हर भर्ती परीक्षा में पेपर आउट करवाने वाला संगठित गिरोह पनप गया है. पहले भी साबित हो चुका है कि पेपर माफियाओं के सत्ता में बैठे राजनीतिक आकाओं के साथ घनिष्ठ संबंध हैं, जो पेपर लीक कर बेरोजगार युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं’.

SOG ने माना शिक्षा संकुल से लीक हुआ था पेपर, दिए थे 1 करोड़ 22 लाख- SOG
REET Exam में पेपर आउट मामले में SOG ने बड़ा खुलासा किया है. एसओजी ने पेपर आउट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर दिया है. अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस, एटीएस एवं एसओजी अशोक राठौड़ ने बताया कि, ‘एसओजी द्वारा रीट परीक्षा पेपर आउट प्रकरण में मुख्य आरोपी भजनलाल को हाल ही में गिरफ्तार किया गया था. भजनलाल से पूछताछ करने पर सामने आया कि REET का पेपर भजनलाल विश्नोई को उदाराम विश्नोई द्वारा दिया गया था. उदाराम को रामकृपाल मीणा ने दिया था. रामकृपाल मीणा शिव शक्ति पब्लिक स्कूल, त्रिवेणी नगर, गोपालपुरा बाईपास में है. शिक्षा संकुल, जयपुर में स्थित पेपर संग्रहण केन्द्र से परीक्षा से पहले 24 सितंबर को ही पेपर निकालकर दिया गया था. रामकृपाल ने REET पेपर के बदले उदाराम को 1 करोड़ 22 लाख रुपये दिए थे’.

यह भी पढ़ें- मास्टरमाइंड भजनलाल एक प्यादा, सरगना तो है जारौली, REET धांधली की हो CBI जांच- किरोड़ी मीणा

आरोपियों से पूछताछ में जुटी है SOG
एसओजी द्वारा उदाराम व रामकृपाल मीणा से पूछताछ की जा रही है और प्रकरण से जुड़े गिरोह के अन्य अभियुक्तगणों व लाभार्थियों की जानकारी प्राप्त की जा रही है. प्रकरण में अब तक कुल 35 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है. गिरफ्तार अभियुक्तों से पेपर लीक प्रकरण से जुड़े अन्य अभियुक्तों के बारे में गहन पूछताछ व अनुसंधान किया जा रहा है. आपको बता दें कि भजनलाल से पूछताछ के बाद एसओजी ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है अब तक एसओजी इस पूरे मामले में 35 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. एसओजी के एडीजी अशोक राठौड़ ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि रीट परीक्षा 2021 पेपर लीक मामले में एसओजी मुख्य कड़ी तक पहुंच गई है. एसओजी ने मामले में उदाराम और रामकृपाल मीणा को गिरफ्तार किया है.

Leave a Reply