चड्डी पॉलिटिक्स: कांग्रेस ने जलाए RSS के नेकर तो पायलट समेत तमाम कांग्रेसियों को लपेटा BJP ने

स्कूलों में पाठ्यपुस्तकों के कथित 'भगवाकरण' को लेकर मुखर हुई कांग्रेस ने इसका विरोध शिक्षा मंत्री के आवास के बाहर चड्ढी जलाकर किया तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने चड्डी इकट्ठा कर शुरू कर दिया कांग्रेस मुख्यालय में भेजना, कभी दलित, ओबीसी या अल्पसंख्यक बना सर संघचालक? वे केवल चड्डी, चड्डी का काम करते हैं- सिद्धारमैया, देशभर में लोगों ने खोल दी है कांग्रेस की चड्डी, इसलिए कर रहे हैं ऐसा चीप स्टंट- बीजेपी

0
चड्ढी पॉलिटिक्स पर तेज हुई बयानबाजी
चड्ढी पॉलिटिक्स पर तेज हुई बयानबाजी
Advertisement2

Politalks.News/Karnatak. कर्नाटक में इन दिनों चड्ढी की सियासत बहुत जोरों से गर्माई हुई है. दरअसल, कर्नाटक के सरकारी स्कूलों में पाठ्यपुस्तकों के कथित “भगवाकरण” के खिलाफ यहां की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस मुखर हो गई है. इस भगवाकरण का विरोध करते हुए NSUI के कुछ सदस्यों ने प्रदेश के शिक्षा मंत्री बीसी नागेश के आवास के बाहर खाकी शॉर्ट्स (नेकर) जला दिए. जिसके बाद से बीजेपी और आरएसएस के कार्यकर्ता जबरदस्त नाराज हो गए. जिसके चलते बीजेपी कार्यकर्ताओं ने अब चड्डी इकट्ठा कर बेंगलुरू स्थित कांग्रेस मुख्यालय में भेजना शुरू कर दिया है. बीजेपी कार्यकर्ताओं का कहना है कि ये चड्डी पूर्व सीएम सिद्धारमैया को गिफ्ट की जायेगी. ऐसे में इस चड्डी विवाद को लेकर प्रदेश की सियासत गरमा गई है और बीजेपी और कांग्रेस के नेताओं के बीच खुलकर बयानबाजी शुरू हो गई है.

कर्नाटक में छात्र राजनीति से शुरू हुए चड्ढी विवाद में अब दोनों विपक्षी पार्टियों के दिग्गज नेता कूद पड़े हैं. दरअसल, आरएसएस कार्यकर्ता खाकी शॉर्ट्स पहनते हैं और स्कूलों में पाठ्यपुस्तकों के कथित ‘भगवाकरण’ को लेकर कांग्रेस मुखर हो गई है. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध शिक्षा मंत्री के आवास के बाहर चड्ढी जलाकर किया. इस पुरे मामले में सियासत उस समय और भी तेज हो गई जब कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर हमला किया और पूछा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख के पद पर दलित या अन्य पिछड़ी जातियों (ओबीसी) के किसी व्यक्ति का चयन क्यों नहीं किया जाता.’ सिद्धरमैया ने कहा कि ‘मैं आपको शुरू से बता रहा हूं कि आरएसएस एक गैर-धर्मनिरपेक्ष संगठन है. क्या कोई दलित, ओबीसी या अल्पसंख्यक समुदायों का सदस्य कभी सर संघचालक बनाया गया है? चड्डी और क्या कर सकता है? वे केवल चड्डी का काम करते हैं, चड्डी, चड्डी का काम करते हैं.’

यह भी पढ़े: पिछले 25 दिन के घटनाक्रम और राज्यसभा प्रत्याशियों से यह तय है कि कांग्रेस कभी नहीं सुधरने वाली!

सिद्धरमैया के इस बयान के सामने आने के बाद अब इस पुरे मामले में सूबे के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई का बयान सामने आया है. सीएम बोम्मई ने कहा कि, ‘कांग्रेस RSS के खिलाफ बदनामी का अभियान चला रही है, लेकिन जनता को सबकुछ पता है. RSS एक देशभक्त और राष्ट्रवादी संगठन है जो समाज सेवा के काम में जुटा हुआ है. कांग्रेस नेता को विकास और भविष्य के बारे में बात करनी चाहिए. लेकिन वह ऐसा कर नहीं रहे. उनके पास कोई मुद्दा नहीं तो वह इस तरह की बातें कर रहे हैं. प्रदेश की जनता सब देख रही है और समझ भी रही है. कांग्रेस को आगे होने वाले चुनावों में कोई पूछने वाला भी नहीं मिलेगा.’ वहीं इस पुरे मामले को लेकर केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी की भी प्रतिक्रिया सामने आई है.

Patanjali ads

प्रह्लाद जोशी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘लोगों ने उनकीचड्डी‘ छीन ली है इसी कारण कांग्रेस के लोग अब आरएसएस की चड्डी जला रहे हैं. उत्तर प्रदेश के लोगों ने पूरे देश के सामने कांग्रेस की चड्डी उतार दी है. असम में भी यही हाल हुआ. अब राजस्थान में पायलट और अन्य लोगों की पार्टी के साथ चड्डी ढीली हो गई है. छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश हर जगह कांग्रेस ने अपनी चड्डी खो दी है. फिर भी उन्हें समझ नहीं आता कि हमें क्या करना चाहिए.’ वहीं NSUI कार्यकर्ताओं द्वारा शिक्षा मंत्री के घर के बाहर खाकी निक्कर जलाने को लेकर खुद शिक्षा मंत्री ने बड़ा दावा किया है. शिक्षा मंत्री का कहना है कि, ‘कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मेरे घर में घुसकर चड्ढी में आग लगाई थी. जिस समय ये घटना हुई उस समय मेरे घर में सिर्फ मेरा बेटा मौजूद था.’

यह भी पढ़े: सरकार में गृहमंत्री – मुख्यमंत्री एक ही है चाहे जिसका फोन टैप करा लो, सब है सरकार के हाथ में- कटारिया

शिक्षा मंत्री बीसी नागेश ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘चड्डी जलाने जैसे चीप स्टंट पर कांग्रेस उतर आई है. इस समय उनके पास कर्नाटक सरकार को घेरने के लिए कोई मुद्दा नहीं बचा है. वहीं स्कूली पाठ्यपुस्तकों के कथित ‘भगवाकरण’ करने वाले आरोपों पर बीसी नागेश ने साफ कर दिया है कि इस मामले में लोगों को गुमराह किया जा रहा है. उनके मुताबिक जो चीजें किताबों में जोड़ी गई हैं, वो पहले से ही मौजूद थीं. सीएम पहले भी स्पष्ट कर चुके हैं कि वे तमाम तरह के बदलाव करने को तैयार हैं. कुछ लोग सिर्फ इसलिए परेशानियां खड़ी कर रहे हैं क्योंकि वे हिंदू एकता से डर गए हैं.’

वहीं बीजेपी सांसद रमेश जिगाजिनागी ने कहा कि, ‘भारत के लोगों ने कांग्रेस की चड्ढी हटा दी है. देशभर के लोगों ने कांग्रेस की चड्ढी हटा दी है, इसी तरह कर्नाटक के लोग भी आगामी चुनाव में कांग्रेस की चड्ढी हटा देंगे. यही कारण है कि कांग्रेस नेता बार-बार चड्ढी के बारे में बात कर रहे हैं. आपको केवल चड्ढी क्यों दिखाई देती है? है ना? कुछ और देखें.’

Leave a Reply