योगी के बाद अब बोले मौर्य- अयोध्या, काशी हमारी! अब मथुरा की तैयारी, पॉलिटॉक्स की खबर पर लगी मुहर

सबसे पुराने और सबसे प्रभावी हथियार 'हिंदुत्व' के साथ सियासी रण में उतरने की तैयारी में भाजपा, अयोध्या में बन रहा राम मंदिर, काशी में कॉरिडोर का होना है उद्घाटन, अब मथुरा बनेगा सियासी मुद्दा, केशव के बयान से गर्माई सियासत, पॉलिटॉक्स ने 10 नवम्बर को ही बता दिया था कि हिंदुत्व के मुद्दे पर चुनावी रण में उतरेगी भाजपा

0
'हिंदुत्व' ही एकमात्र 'एजेंडा'!
'हिंदुत्व' ही एकमात्र 'एजेंडा'!
Advertisement2

Politalks.News/Uttarpradesh. एक बार फिर आपके विश्वसनीय चैनल पॉलिटॉक्स की खबर पर मुहर लग गई है. उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly election) में बीजेपी ने अपने सबसे शक्तिशाली हथियार ‘हिंदुत्व‘ के साथ सियासी रण में उतरने की तैयारी कर ली है, जिसके संकेत सूबे मुख्यमंत्री योगी के बाद अब डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने भी दे दिए हैं. केशव मौर्य (Keshav Prasad Maurya)ने एक ट्वीट कर कहा है कि, ‘अयोध्या और काशी (Ayodhya Kashi) भव्य मंदिर निर्माण जारी है और अब मथुरा(Mathura) की तैयारी है’. गौरतलब है कि ‘अयोध्या-काशी-मथुरा’ में मंदिर का मुद्दा शुरू से ही बीजेपी के एजेंडे में शामिल रहा है.

आपको बता दें, अयोध्या में बाबरी मस्जिद और श्रीराम जन्मभूमि का विवाद वर्षों तक चला, जिस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला राममंदिर के पक्ष में आया है. इसके बाद से अयोध्या में राममंदिर निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है. इसलिए अब आगामी विधानसभा में मथुरा में चल रहे कृष्ण जन्मभूमि विवाद को यूपी चुनाव का बड़ा मुद्दा बनाया जाने वाला है. वहीं यूपी का अगला चुनाव काम और ईमानदारी पर नहीं बल्कि हिंदुत्व के मुद्दे पर ही होगा, इस बात की जानकारी सबसे पहले पॉलिटॉक्स ने 10 नवंबर को दे दी थी. ऐसे में अब योगी आदित्यनाथ के बाद केशव प्रसाद मोर्य ने हमारी खबर मुहर लगा दी है.

यह भी पढ़ें- ममता दीदी का राहुल पर सबसे बड़ा हमला- अगर कोई कुछ करता नहीं और विदेश में रहेगा तो कैसे चलेगा?

पॉलिटॉक्स ने 10 नवंबर को बता दिया था हिंदुत्व पर चुनाव
आपको बता दें कि हमने बीती 10 नवंबर को ही बता दिया था कि भाजपा यूपी के सियासी रण में इस बार भी हिंदुत्व के मुद्दे पर ही उतरेगी. पॉलिटॉक्स में अपनी शीर्षक खबर-अयोध्या हुई हमारी, अब मथुरा की बारी! बीजेपी ने की पुराने फॉर्मूले के साथ चुनावी रण में उतरने की तैयारी में पहले ही बताया दिया था कि भाजपा ‘ईमानरदार सरकार, काम दमदार‘ की बजाय हिंदुत्व के मुद्दे पर ही चुनाव लड़ेगी. हमने नहीं बल्कि इसके संकेत खुद सीएम योगी ने दिवाली की पूर्व संध्या पर आयोजित भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान ये कह कर दे दिए थे कि, ‘पहले कारसेवकों पर गोलियां चली थीं अबकी बार पुष्प वर्षा होगी‘. सीएम योगी के इस बयान के बाद से सियासी गलियारों में इस बात को लेकर जबरदस्त चर्चा है कि आखिर योगी कहां कार सेवा करने की बात कर रहे हैं, क्योंकि अयोध्या में तो राम मंदिर का निर्माण कार्य अपने चरम पर है. लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के पूरे बयान से मिले इशारों से यह साफ हो गया है कि राम की नगरी अयोध्या के बाद इस बार कृष्ण की नगरी मथुरा के मुद्दे पर चुनाव लड़ा जाएगा.

‘अयोध्या में बन रहा मंदिर, काशी में कॉरिडोर अब मथुरा की बारी’

इससे पहले केशव प्रसाद मौर्य ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि, ‘अयोध्या में भगवान रामलला के भव्य मंदिर निर्माण से भक्तों में खुशी है. जैसा कि हम लोग आंदोलन के समय नारा लगाते थे कि अयोध्या हुई हमारी, अब काशी-मथुरा की बारी. काशी और मथुरा दोनों हमारी हैं, काशी में कॉरिडोर बन चुका है. अब कृष्ण जन्मभूमि की बारी है. ये सारा काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में और जनता के आशीर्वाद से हो रहा है’.

‘बाबरी मस्जिद झांकी है, काशी- मथुरा बाक़ी है’

यहां आपको बता दें कि ऐसा दावा किया जाता है कि मथुरा की शाही ईदगाह मस्जिद जिस जमीन के ऊपर बनाई गई है, उसके नीचे ही कृष्ण जन्मभूमि है. मुगल शासक औरंगजेब ने मंदिर तोड़कर यहां मस्जिद का निर्माण कराया था. इसी तरह काशी के विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर भी विवाद जारी है. बता दें, बीजेपी और वीएचपी ने अयोध्या-मथुरा-काशी को लेकर देश भर में आंदोलन चलाया था, जिसमें अयोध्या मुद्दा सबसे ऊपर रहा था. राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान 6 दिंसबर 1992 में बाबरी मस्जिद को कारसेवकों ने विध्वंस कर दिया था. उस समय वीएचपी का एक नारा था- ‘बाबरी मस्जिद झांकी है, काशी- मथुरा बाक़ी है‘.

यह भी पढ़ें- बेरोजगारों की मांगों पर आचार्य तो संविदाकर्मियों के लिए हेमाराम-सोलंकी ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे पीएम

यहां यह बता काबिले गौर है कि यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य का यह बयान ऐसे समय आया है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करने जा रहे हैं. कॉरिडोर का शिलान्यास मार्च 2019 में हुआ था और 2021 खत्म होते-होते काशी विश्वनाथ कॉरिडोर तैयार हो गया है. काशी कॉरिडोर के उद्घाटन कार्यक्रम के लिए देशभर के साधु-संतों और तमाम विशिष्ट लोगों को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया है. पीएम मोदी के काशी दौरे को देखते हुए ही केशव मोर्य ने कहा कि जिस प्रकार से अयोध्या में श्री राम की जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण से देश ही नहीं, पूरी दुनिया के राम भक्तों में खुशी की लहर दौड़ गई. केशव का ‘मथुरा की बारी है’ का ट्वीट इसको देखते हुए ही आया है.

Leave a Reply