कहां गायब हो गए शुभेंदु अधिकारी? नंदीग्राम सीट पर हुई वोटिंग के बाद से नहीं अधिकारी का कोई अता-पता

बीजेपी की नई रणनीति, शुभेंदु अधिकारी और मुकुल रॉय नेशनल मीडिया से आउट, नंदीग्राम में हुई वोटिंग के बाद से शुभेंदु अधिकारी नहीं दिखे किसी चैनल पर, शुभेंदु की महत्वकांक्षा के विरोध में उतरे बीजेपी नेता

0
कहां गायब हो गए शुभेंदु अधिकारी?
कहां गायब हो गए शुभेंदु अधिकारी?
Advertisement2

Politalks.News/WestBengalElection. पश्चिम बंगाल के चुनावी दंगल में आर-पार की जंग चरम पर है. लेकिन कुछ ऐसा भी हो रहा है जिससे सभी अचंभित हैं. पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा की ओर से सबसे ज्यादा प्रचार जिस नेता का हुआ वे शुभेंदु अधिकारी हैं. हर नेशनल चैनल और अखबार के वो आंखों के तारे थे, लेकिन जब तक की नंदीग्राम में वोटिंग नहीं हो गई, तब तक. अब 1 अप्रैल को हुई वोटिंग के बाद से शुभेंदु अधिकारी का कोई अता-पता नहीं है, किसी को नहीं पता की शुभेंदु अधिकारी और उनका परिवार कहां है. तीसरे चरण में 1 अप्रैल को उनकी नंदीग्राम सीट पर मतदान हुआ था उसके अगले दिन से ही उनका अता-पता नहीं है. हो सकता है कि शुभेंदु अधिकारी स्थानीय स्तर पर कहीं प्रचार के काम में लगे हो, लेकिन अब राष्ट्रीय या प्रदेश के मीडिया में उनको नहीं दिखाया जा रहा है. यहां तक कि उसके बाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या अमित शाह की सभाओं में भी वे नहीं दिखे हैं. ऐसा लग रहा है कि भाजपा जिस मकसद से उनको ले आई थी वह पूरा हो गया और उसके बाद अब पार्टी को उनकी कोई खास जरूरत नहीं है.

शुभेंदु अधिकारी को बीजेपी में इसलिए लाया गया था कि वे मेदिनीपुर के इलाके में ममता बनर्जी के वर्चस्व को तोड़ेंगे. हालांकि ममता बनर्जी ने नंदीग्राम से चुनाव लड़ कर सारे समीकरण बिगाड़ दिए. फिर भी अगर उस इलाके में भाजपा लड़ती हुई दिखी तो उसका कारण शुभेंदु अधिकारी और उनका परिवार ही था. लेकिन इसे लेकर भाजपा के अंदर बहुत विरोध हो गया था. पार्टी के पुराने नेताओं ने शुभेंदु अधिकारी परिवार का विरोध किया था. शुभेंदु अधिकारी अपने आप को इतने जोर-शोर से मुख्यमंत्री का दावेदार पेश करने लगे थे कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष को कहना पड़ा कि भाजपा की सरकार बनती है तो कोई ऐसा व्यक्ति भी मुख्यमंत्री बनेगा, जो विधायक नहीं हो. यह भी कहा जा रहा है कि भाजपा नेताओं के विरोध की वजह से शुभेंदु अधिकारी को लाइमलाइट से हटाया गया है. तृणमूल कांग्रेस से बीजेपी में आए मुकुल रॉय के भी लगभग यही हाल हैं, वो भी पहले से ही लाइमलाइट से बाहर हैं.

यह भी पढ़ें: ममता दीदी के जबरा फैन बने पीके अड़े अपनी बात पर- बंगाल में 100 सीटें बीजेपी के लिए दूर की कौड़ी

बता दें कि बीजेपी के भ्रम को तो़ड़ने के लिए ही ममता बनर्जी ने अपनी सीट भवानीपुर से चुनाव नहीं लड़कर नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी के सामने चुनाव लड़ने का ऐलान किया था, नंदीग्राम तभी से बंगाल चुनाव की सबसे हॉट सीट बनी हुई थी, जिसपर सभी की निगाहें थी. नेशनल मीडिया पर भी नंदीग्राम सीट छाई हुई थी और मतदान से पहले शुभेंदु अधिकारी मीडिया के आंखों के तारे थे.

Patanjali ads

Leave a Reply