बंगाल में बोले शाह- दुर्गा पूजा के लिए लेनी पड़ती है इजाजत, दीदी ने सरस्वती की पूजा भी BJP के दबाव में की

दीदी, बंगाल को पता है कि आपने स्कूलों में सरस्वती पूजा पर रोक लगाई है, जनता से बोले अमित शाह- आपने कम्युनिस्टों को भी मौका दिया, तृणमूल को भी मौका दिया, बस एक बार बीजेपी को मौका देकर देखिए, यह लड़ाई बंगाल को सोनार बांगला बनाने के लिए बीजेपी की जंग है

बंगाल में शाह का दीदी पर हमला
बंगाल में शाह का दीदी पर हमला

Politalks.News/WestBengal. पश्चिमी बंगाल चुनाव को लेकर बीजेपी के चाणक्य और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह एक बार फिर बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर है. इस दौरान अमित शाह ने दक्षिण 24 परगना में परिबोर्तन रैली को हरी झंडी दिखाई. बंगाल फ़तेह करने के लिए बीजेपी एड़ी चोटी का जोर लगा रही है. इसी सिलसिले में परिबोर्तन रैली को रफ़्तार देने के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने काकद्वीप के नामखाना में जनसभा को संबोधित करते हुए ममता सरकार जमकर हमला बोला. अमित शाह ने कहा कि हम बंगाल में बदलाव करने के लिए आए हैं और ‘क्या बंगाल में दुर्गा पूजा नहीं होनी चाहिए? शाह ने दावा किया कि इस बार विधानसभा चुनाव के बाद हम तृणमूल कांग्रेस को उखाड़ फेंकेंगे.

ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा कि जय श्री राम का नारा लगता है तो दीदी बोलती है कि उनका अपमान करते हैं. अमित शाह ने कहा कि ‘जय श्रीराम का नारा तो लगना चाहिए. दीदी कहती हैं कि इस नारे से उनका अपमान हुआ. अब बताइए किसका अपमान होता है जय श्री राम के नारे से. तुष्टीकरण के खिलाफ है जय श्रीराम का नारा, इस नारे को लेकर बीजेपी घर-घर जाएगी. यह नारा दीदी के कानों तक पहुंचना चाहिए.’

दुर्गा पूजा और सरस्वती पूजा को लेकर भी अमित शाह ने ममता बनर्जी पर निशाना साधा और कहा कि ‘क्या बंगाल में दुर्गा पूजा नहीं होनी चाहिए? इसके लिए कोर्ट की परमिशन लेनी पड़ती है. क्या सरस्वती पूजा नहीं होनी चाहिए. ममता दीदी ने इन पर रोक लगा दिया. केवल बीजेपी की तरफ से दबाव के बाद उन्हें देवी सरस्वती की पूजा करते देखा गया. दीदी, बंगाल को पता है कि आपने स्कूलों में सरस्वती पूजा पर रोक लगाई है.’

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन की आंच पहुंची बंगाल चुनाव तक, निपटने के लिए शाह ने तैयार किया तीन सूत्रीय फॉर्मूला

Patanjali ads

अमित शाह ने मछुआरा समुदाय को साधने की भरपूर कोशिश की और सभा में एलान किया कि अगर हम सत्ता में आते है तो सभी मछुआरों को 6000 रुपए सालाना दिए जाएंगे.शाह ने कहा कि ममता बनर्जी ने बंगाल में घुसपैठियों को जगह दी लेकिन हमारी सरकार के आते ही हम एक एक घुसपैठिये को बहार निकाल देंगे.

बंगाल में फैले अराजक माहौल को लेकर अमित शाह ने कहा, ‘यह लड़ाई बंगाल को सोनार बांगला बनाने के लिए बीजेपी की जंग है. यह लड़ाई हमारे बूथ कार्यकर्ताओं और टीएमसी के सिंडिकेट के बीच है.ममता के रहते कानून नहीं रह सकता है. आपको ममता के गुंडों से डरने की जरूरत नहीं है. चुनाव के दिन एक भी गुंडा सड़क पर नहीं दिखेगा.’

बंगाल की जनता से अपील करते हुए अमित शाह ने कहा कि ‘आपने कम्युनिस्टों को भी मौका दिया, तृणमूल को भी मौका दिया, बस एक बार बीजेपी को मौका देकर देखिए. केवल 5 सालों में ही बंगाल को बदलकर रख देंगे. डबल इंजन की सरकार से ही विकास संभव है. रविंद्रनाथ टैगोर, रामकृष्ण परमहंस, विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, चैतन्य महाप्रभु की कल्पना का बंगाल बने. इसके साथ हम सबको साथ आकर काम करने की जरूरत है.’

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन का असर- पंजाब निकाय चुनाव में कांग्रेस ने की वोटों की बम्पर पैदावार, BJP का सूपड़ा साफ

ममता बनर्जी पर आरोप लगते हुए अमित शाह ने कहा, ‘बंगाल के विकास के लिए मोदी जी ने बहुत पैसे भेजे.लेकिन ये सारे पैसे ममता दीदी के सिंडिकेट की भेंट चढ़ गए. अम्फान तूफान में केंद्र सरकार ने राज्य के लिए पैसा भेजा.उन पैसों को ये टीएमसी के गुंडे खा गए.बीजेपी की सरकार बनाइए. कोई घुसपैठिया तो क्या परिंदा भी पर नहीं मार नहीं पाएगा. राजनीतिक हिंसा में 130 से अधिक बीजेपी के कार्यकर्ता मारे गए.अगर बीजेपी की सरकार आती है तो उन आरोपियों को पाताल से भी ढूंढ कर निकालेंगे और सजा देंगे.

जनसभा के बाद शाह ने यहां से भाजपा की पांचवीं परिवर्तन यात्रा को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इस मौके ओर शाह ने कहा कि राज्य के सभी 294 विधानसभा क्षेत्रों से भाजपा की परिवर्तन यात्रा गुजरेगी. जनसभा के अमित शाह ने नारायणपुर गांव में एक गरीब शरणार्थी परिवार के घर दोपहर का भोजन किया. भोजन के पश्चात शाह ने काकद्वीप में एक रोड शो भी किया.

नामखाना में सभा को सम्बोधित करने से पहले गृहमंत्री अमित शाह सुबह कोलकाता के भारत सेवाश्रम संघ के दफ्तर पहुंचे. अमित शाह ने यहाँ पूजा अर्चना की और वहां मौजूद लोगों से मुलाक़ात की.इसके बाद अमित शाह गंगासागर पहुंचे और और कपिल मुनि के आश्रम में आरती की और संतों से मुलाकात भी की.

Leave a Reply