बंगाल में आज हो रहे सातवें चरण के मतदान से पहले दीदी का पीएम मोदी की ‘मन की बात’ पर जोरदार तंज

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लाइव कार्यक्रम 'मन की बात' तंज कसते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि लोगों की रुचि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'मन की बात कार्यक्रम में नहीं है, बल्कि इसकी जगह वे कोविड की बात सुनना चाहते हैं क्योंकि महामारी में ऑक्सीजन और टीके की कमी की वजह से जीवन मुश्किल हो गया है

0
दीदी का पीएम मोदी की 'मन की बात' पर जोरदार तंज
दीदी का पीएम मोदी की 'मन की बात' पर जोरदार तंज
Advertisement2

Politalks.News/WestBengalElection. कोरोना महामारी से हाहाकार के बीच पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के सातवें चरण के लिए मतदान जारी है. सातवें चरण के इस चुनाव के दौरान 86 लाख से अधिक मतदाता 34 सीटों पर 284 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. सबसे महत्वपूर्ण इस चरण में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गृह निर्वाचन क्षेत्र भवानीपुर में भी वोटिंग जारी है. आज सुबह सात बजे से शुरू हुई वोटिंग शाम छह बजे तक जारी रहेगी. इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को रेडियो पर आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लाइव कार्यक्रम ‘मन की बात‘ तंज कसते हुए कहा कि लोगों की रुचि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात कार्यक्रम में नहीं है, बल्कि इसकी जगह वे कोविड की बात सुनना चाहते हैं क्योंकि महामारी में ऑक्सीजन और टीके की कमी की वजह से जीवन मुश्किल हो गया है.

आपको बता दें प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात में कहा कि कोविड-19 की लहर ने देश को हिला दिया है और लोगों को टीकाकरण कराना चाहिए. मुर्शिदाबाद जिले के सभागार में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के दौरान बनर्जी ने कहा कि मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उस समय बंगाल पर कब्जा करने की योजना बनाने में व्यस्त थे जब कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए उचित कदम उठाए जाने चाहिए थे.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस को अगले महीने मिलेगा फुल टाइम अध्यक्ष या इस बार कोरोना बनेगा ब्रह्मास्त्र ?

पीएम मोदी के कार्यक्रम पर निशाना साधते हुए ममता बनर्जी ने कहा, किसकी ‘मन की बात में रुचि है, अब लोग कोविड की बात सुनना चाहते हैं. अगर एक हजार लोगों की भीड़ में एक संक्रमित है तो वह सभी को संक्रमित कर सकता है. केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के दो लाख जवान उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली जैसे राज्यों से आए और वे अनजाने में वायरस के वाहक हो सकते हैं क्योंकि निर्वाचन आयोग द्वारा उनकी आरटी-पीसीआर जांच नहीं कराई गई.

Patanjali ads

इस सारी सियासी बयानबाजी के बीच चुनाव के पूर्व के चरणों में हुई हिंसा के मद्देनजर सातवें चरण के मतदान के लिए चुनाव आयोग ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं. इस चरण में सेंट्रल फोर्सेस की कुल 653 कंपनियों को सुरक्षा में तैनात किया गया है. आसनसोल और दुर्गापुर समेत पश्चिम बर्धमान जैसे इलाकों में सुरक्षा के पुख्ता इंतज़ाम किए गए हैं. सबसे ज़्यादा पश्चिम बर्धमान में 154 कंपनियां, दक्षिण दिनाजपुर में 108 कंपनियां, मुर्शिदाबाद में 102 कंपनियां, मालदा में 122 कंपनियां और कोलकाता में 63 कंपनियां तैनात रहेंगी.

यह भी पढ़ें: संकट की घड़ी में पाकिस्तान ने भी समझा भारत के लोगों का दर्द, इमरान ने भेजा एकजुटता का पैगाम

आपको बता दें, सातवें चरण में 12,068 मतदान केंद्रों पर वोट डाले जाएंगे. सभी की नजरें भवानीपुर निर्वाचन क्षेत्र पर होंगी जहां से तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी मौजूदा विधायक हैं और वह इसी क्षेत्र की निवासी हैं. बनर्जी ने इस बार नंदीग्राम से चुनाव लड़ा है और अपने गृह निर्वाचन क्षेत्र से अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्य के विद्युत मंत्री सोभनदेब चट्टोपाध्याय को उम्मीदवार बनाया है. बीजेपी ने भवानीपुर से अभिनेता रुद्रनील घोष को अपना उम्मीदवार बनाया है जो तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भगवा दल में शामिल हो गए थे.

Leave a Reply