बॉलीवुड के साथ राजनीति के मैदान में भी सशक्त लीडर के रूप में उभरी ‘ड्रीम गर्ल’ हेमा मालिनी

अपने 56 साल के फिल्मी करियर के बाद आज भी प्रशंसकों के बीच 'ड्रीमगर्ल' बनी हुईं हैं हेमा मालिनी, दशकों तक किया है फिल्म इंडस्ट्री पर राज, राजनीति के साथ अभी भी फिल्मों में सक्रिय हैं हेमा मालिनी

Hema Malini Birthday Special (हेमा मालिनी)
Hema Malini Birthday Special (हेमा मालिनी)

Politalks.News/Birthday_Special. फिल्म इंडस्ट्रीज की एक ऐसी अभिनेत्री जिसकी खूबसूरती का बॉलीवुड ही नहीं पूरा देश दीवाना था. 56 साल के अपने फिल्मी करियर के बाद आज भी प्रशंसकों के बीच ‘ड्रीमगर्ल’ बनी हुईं हैं. जी हां हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री हेमा मालिनी की. ड्रीम गर्ल और भाजपा सांसद का आज 72वां जन्मदिन हैं. हेमा का जन्म 16 अक्टूबर 1948 को तमिलनाडु में हुआ था. फिल्म इंडस्ट्री में अगर सबसे खूबसूरत एक्ट्रेस की बात होती है तो हेमा मालिनी का नाम सबसे पहले लिया जाता है. ‘हेमा ने अपनी अदाकारी से बड़ा मुकाम हासिल किया. इसके साथ ही हेमा मालिनी ने राजनीति के मैदान में भी अपने आप को एक परिपक्व नेता के रूप में स्थापित किया, मौजूदा समय में ड्रीम गर्ल एक मझे हुए लीडर के तौर पर सक्रिय हैं’.

समाज सेवा के इरादे से उन्होंने राजनीति में कदम रखा और 2004 में बीजेपी में शामिल हो गईं। ‘हेमा मालिनी का नाम उन कामयाब महिलाओं की लिस्ट में आता है जो राजनीति में खुद को साबित करने में सफल रहीं’। बॉलीवुड की यह अभिनेत्री भरत्नाट्यम की एक बेहतरीन नृत्यांगना भी हैं. हेमा के पिता वी एस रामानुजम चक्रवर्ती तमिल फिल्मों के निर्माता थे. हेमा के लिए आसान नहीं था फिल्मों का शुरुआती सफर.

साल 1964 में हेमा मालिनी को तमिल डायरेक्ट सीवी श्रीधर ने रिजेक्ट कर दिया था।श्रीधर यहां तक कह दिया था कि हेमा मालिनी में हीरोइन बनने वाली बात नहीं हैं। इस फिल्म में ये रोल बाद में जयललिता को दिया गया था। उसके बाद हेमा मालिनी को पहली फिल्म 1965 में मिली. फिल्म ‘पांडवा वनवासम’ में उन्होंने एक छोटा सा किरदार निभाया था। हेमा मालिनी ने साउथ फिल्मों से ही अपने करियर की शुरुआत की थी. उसके बाद बड़े सपने लेकर हिंदी सिनेमा की ओर रुख किया।

वर्ष 1969 में राज कपूर के साथ ‘सपनों के सौदागर’ से हिंदी फिल्मों में की शुरुआत

साउथ की फिल्मों के बाद हेमा मालिनी ने साल 1969 में राजकपूर के साथ फिल्म ‘सपनों का सौदागर’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया. इस फिल्म ने कोई खास प्रदर्शन नहीं किया था, लेकिन हेमा मालिनी को उनके किरदार और अभिनय के लिए काफी तारीफ मिली थीं. इसके बाद उन्हें फिल्म ‘जॉनी मेरा नाम’ में देव आनंद और ‘तुम हसीन मैं जवान’ में धर्मेंद्र के अपोजिट कास्ट कर लिया गया था. दोनों ही फिल्म सुपरहिट साबित हुईं. उन्होंने सीता और गीता, शोले, प्रेम नगर, सत्ते पे सत्ता, ड्रीम गर्ल, खुशबू और किनारा, नसीब जैसी तमाम फिल्मों में शानदार अभिनय किया.

Patanjali ads

70 के दशक में हेमा मालिनी को बॉलीवुड ने ड्रीम गर्ल के नाम से नवाजा. यहां हम आपको बताना चाहेंगे कि हेमा मालिनी अपने समय की उन गिनी-चुनी एक्ट्रेस में शामिल थीं जिन्होंने बेल बॉटम और शर्ट पहन कर फिल्म की शूटिंग की थी. हेमा मालिनी ने बॉलीवुड की मशहूर कपूर फैमिली की दो जनरेशन्स के साथ काम किया है. हेमा ने राज कपूर, शम्मी कपूर, शशि कपूर, रणधीर कपूर और ऋषि कपूर के साथ रोमांस किया है. इसके अलावा हेमा मालिनी ने कुछ फिल्मों को निर्देशित भी किया.

हेमा-धर्मेंद्र का खूब प्यार परवान चढ़ा, दोनों ने 40 फिल्माें में साथ काम किया

हेमा मालिनी और धर्मेंद्र की पहली मुलाकात फिल्म ‘तुम हसीन मैं जवान’ के सेट पर हुई थी. इसके बाद इस जोड़ी ने 40 से ज्यादा फिल्मों में साथ काम किया. उस समय फिल्मी पर्दे की ये जोड़ी धर्मेंद्र-हेमा मालिनी के नाम से प्रसिद्ध हुई. धीरे-धीरे दोनों का प्यार परवान चढ़ा और इन दोनों ने शादी का फैसला किया. धर्मेंद्र पहले से ही शादीशुदा थे. ऐसे में हेमा मालिनी से शादी करने के लिए दोनों ने पहले अपना धर्म परिवर्तन किया था. धर्म परिवर्तन के वक्त हेमा मालिनी ने अपना नाम आयशा रखा और धर्मेंद्र ने अपना नाम बदलकर दिलावर खान कर लिया था. वर्ष 1979 में धर्मेंद्र ने हेमा मालिनी के साथ शादी कर ली. हेमा मालिनी की दो पुत्री हैं- ईशा और अहाना. आज भी हेमा मालिनी उम्र के इस पड़ाव में राजनीति के अलावा बॉलीवुड में भी सक्रिय हैं.

वर्ष 1999 में हेमा मालिनी ने भाजपा के प्रचार के रूप में शुरू की राजनीतिक पारी

बॉलीवुड की ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी ने दशकों तक फिल्म इंडस्ट्री पर राज किया. बॉलीवुड में सफलता का स्वाद चखने के बाद हेमा ने राजनीति की तरफ रुख किया. हेमा मालिनी ने वर्ष 1999 में राजनीति के क्षेत्र में कदम रखा। उन्होंने अपनी सियासत पारी की शुरुआत भारतीय जनता पार्टी से की. आपको बताते हैं हेमा की राजनीति में आने की शुरुआत कैसे हुई. 1999 में हेमा मालिनी ने बीजेपी के उम्मीदवार विनोद खन्ना के लिए पंजाब के गुरदासपुर में चुनाव प्रचार किया. उसके बाद वह साल 2004 में बीजेपी में शामिल हो गईं.

2009 तक वे भाजपा की राज्यसभा की सदस्य रहीं. 2010 में भाजपा आलाकमान ने उन्हें जनरल सेक्रेटरी बना दिया. राजनीति के मैदान में अधिक सक्रियता को देखते हुए भाजपा ने उन्हें 2014 लोकसभा चुनावों में मथुरा से पार्टी का उम्मीदवार बनाया. हेमा मालिनी ने मथुरा में रालोद के जयंत चौधरी को 3 लाख से भी ज्यादा वोटों से हरा दिया. 2019 के चुनावों में पार्टी ने उन्हें एक बार फिर से मथुरा संसदीय सीट से मौका दिया. इस बार भी हेमा मालिनी ने भाजपा को निराश नहीं किया और जबरदस्त जीत के साथ दोबारा संसद पहुंची. ड्रीमगर्ल के 72वें जन्मदिन पर उनको ढेरों शुभकामनाएं.

Leave a Reply